बाबरी मस्जिद के पैरोकार बोले- मेरी दुआ है नरेंद्र मोदी फिर बने प्रधानमंत्री

0 9

देश में इस समय चुनावी माहौल बना हुआ है ऐसे में उत्तर प्रदेश के अयोध्या विवाद मामले में बाबरी मस्जिद के मुद्दई मोहम्मद इकबाल अंसारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफों के पुल बांधे हैं. जी हां, दरअसल उन्होंने नरेंद्र मोदी को कांग्रेस के किसी भी पीएम से लाख गुना बेहतर बताया है.

Loading...

Loading...

बता दें कि उन्होंने यह इच्छा जताई है कि नरेंद्र मोदी दोबारा देश के प्रधानमंत्री बनें. उन्होंने कहा कि बाकी राजनीतिक दलों ने तो अभी प्रधानमंत्री उम्मीदवार का नाम तक तय नहीं किया है.

आपको बता दें कि अंसारी ने मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि पीएम मोदी ने कोई भी ऐसा काम नहीं किया जिसे मुस्लिम विरोधी ठहराया जा सके. अंसारी ने कहा कि केंद्र सरकार की किसी योजना में धर्म का भेदभाव नहीं है. अगर वह पीएम बनते हैं तो देश के लिए अच्छा होगा. उन्होंने तमाम एग्जिट पोल्स पर भरोसा जताया और कहा, मेरी दुआ है कि असल मतगणना में भी मोदी ही सफल हों. यहां आपको बता दें कि अंसारी सुप्रीम कोर्ट में चल रहे आयोध्या विवाद मामले में मस्जिद के पैरोकार हैं.

देश को आतंकवादी हमलों से मोदी ही बचा सकते हैं

मालूम हो कि बाबरी मस्जिद के मुद्दई अंसारी ने नरेंद्र मोदी के शासनकाल पर संतोष जताया. जी हां, दरअसल उन्होंने कहा कि एग्जिट पोल ने मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बना दिया है. मेरी दुआ है कि असल मतगणना में भी वह जबरदस्त जीत हासिल करें. उन्होंने कहा कि देश को आतंकी हमलों से सुरक्षित रखने की जरूरत है और यह काम सिर्फ नरेंद्र मोदी ही कर सकते हैं.

मोदी-योगी सरकारों ने नहीं किया मुस्लिम विरोधी कोई काम

दरअसल अंसारी ने कहा कि पीएम मोदी ने अपने 5 साल के कार्यकाल में कोई भी मुस्लिम विरोधी काम नहीं किया है. इसके साथ ही उन्होंने यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार की भी तारीफ की. उन्होंने कहा कि मोदी और योगी सरकार की योजनाओं में भेदभाव की कोई शिकायत नहीं है. इसलिए अब तक मुस्लिम समाज की ओर से उनके खिलाफ कोई आवाज नहीं उठी है.

उन्होंने बोला कि मुझे विश्वास है कि नरेंद्र मोदी के दोबारा पीएम बनने के बाद मंदिर-मस्जिद का शांतिपूर्ण हल निकलेगा. जानकारी के लिए बता दें कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट मध्यस्थों के जरिये समाधान निकालने की पहल कर रहा है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.