Loading...

चीनी वैज्ञानिकों ने इंसानी दिमाग कैसे काम करता है जानने के लिए बंदर में विकसित किया मानव जैसा ब्रेन

0 11

इंसानी दिमाग कैसे विकसित होता है, यह जानने के लिए चीनी वैज्ञानिकों ने नया प्रयोग किया है। वैज्ञानिकों ने इसके लिए बंदर में इंसानी दिमाग के विकसित करने जीन को डाला है। बता दें कि इस शोध के मुताबिक, एमसीपीएच1 जीन को बंदर के भ्रूण में एक वायरस की मदद से छोड़ा गया है। दरअसल यह जीन ब्रेन के विकास में अहम भूमिका निभाता है।

बंदरों की मेमोरी और रंगों को पहचानने की क्षमता को बनाया आधार

आपको बता दें कि शोधकर्ताओं के मुताबिक, इस प्रक्रिया में 11 जेनेटिकली मोडिफाइड बंदरों का इस्तेमाल किया गया था, जिसमें से प्रयोग के दौरान ही 6 की मौत हो गई थी। दरअसल जिंदा बचे 5 बंदरों की मेमोरी और रंगों को पहचानने की क्षमता के आधार पर दिमाग को समझने की कोशिश की गई।

मालूम हो कि इन बंदरों के दिमाग ने भी विकसित होने में इंसानों जितना ही समय लिया है। दरअसल बंदर में विकसित हुए ब्रेन का आकार इंसानों जैसा ही है। बता दें कि कुनमिंग इंस्टीट्यूट ऑफ जुलॉजी के शोधकर्ता बिंग शू का कहना है कि, यह पहली बार है जब जेनेटिकली मोडिफाइड बंदरों की मदद से इंसानी दिमाग के विकास को समझा जा रहा है।

Loading...

आपको बता दें कि इस प्रयास में शुरुआती सफलता मिलने के बाद चीनी वैज्ञानिक खुश हैं। वहीं दूसरे वैज्ञानिक इसे लापरवाही और नीतियों के विरुद्ध बता रहे हैं। जी हां, दरअसल कोलोराडो यूनिविर्सटी के प्रोफेसर जेम्स सिकेला का कहना है यह प्रयोग काफी खतरनाक है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.