मात्र इतने रुपए में चैलेंज किया जा सकता है किसी भी व्यक्ति का वोट, जानिए इस प्रक्रिया के बारे में

0 13

भारत में लोकसभा चुनाव शुरू हो चुके हैं। 11 अप्रैल को पहले चरण का मतदान हो चुका है। अब दूसरे चरण के वोट आगामी 18 अप्रैल को डाले जाएंगे। कुल मिलाकर 7 चरणों मे 2019 के आम चुनाव संपन्न होंगे। आज हम आपके लिए चुनाव से जुड़ी एक खास जानकारी लेकर आए हैं जिसके जरिए आप किसी भी व्यक्ति के वोट को चैलेंज कर सकते हैं।

वोट डालने से पहले करना होता है चैलेंज

आपको बता दें कि पोलिंग बूथ पर वोटर की पहचान करने और फर्जी वोटिंग रोकने के लिए चुनाव आयोग कई प्रकार के प्रबंध करता है। इतना ही नहीं चुनाव आयोग पार्टियों के पोलिंग एजेंट समेत अन्य लोगों को चैलेंज्ड वोट की सुविधा देता है। बता दें कि इसके अंतर्गत पोलिंग एजेंट या वहां मौजूद अन्य लोग वोट डालने से पहले किसी भी वोटर के वोट को चैलेंज कर सकते हैं।

जी हां, दरअसल इसके लिए पीठासीन अधिकारी को 200 रु की फीस जमा करनी होती है। इसके बाद पीठासीन अधिकारी इस चैलेंज की जांच करता है। बता दें कि चैलेंज सही पाए जाने पर फर्जी मतदाता को लिखित शिकायत के साथ पुलिस को सौंप दिया जाता है। मालूम हो कि चैलेंज गलत निकलने पर वोटर को मतदान की अनुमति दी जाती है।

एएसडी सूची में नाम होने पर ऐसे करें वोट

आपको बता दें कि चुनाव आयोग की ओर से अनुपस्थित, स्थानांतरित या मृत वोटरों के लिए अलग से एएसडी सूची बनाई जाती है। मालूम हो कि यदि आपका नाम भी इस सूची आ गया है तो भी आप वोट दे सकते हैं। दरअसल इसके लिए आपको फॉर्म 17ए भरकर जमा करना होगा। बता दें कि यह फॉर्म पीठासीन अधिकारी के पास उपलब्ध होता है।

जानिए क्या है रिफ्यूज्ड टू वोट

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि किसी भी प्रत्याशी के पसंद नहीं आने पर चुनाव आयोग मतदाताओं को नोटा का विकल्प देता है। लेकिन कई मतदाता कंट्रोल यूनिट का बटन दबने के बाद किसी को भी वोट नहीं देना चाहते हैं। जी हां, दरअसल इस स्थिति में पीठासीन अधिकारी ऐसे वोटरों के नाम के आगे रिफ्यूज्ड टू वोट लिख देता है। मालूम हो कि ऐसे वोटरों की जानकारी 17सी रजिस्टर में भी दर्ज की जाती है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.