Loading...

NSSO का वो सर्वे जिससे घबरा गई थी मोदी सरकार, 45 सालों में सबसे ज्यादा 2017-18 में रही बेरोजगारी दर

0 14

हाल ही में नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस यानि कि NSSO के एक सर्वे से संबंधित खबर ने खूब सुर्खियां बटोरी थी जिसमे एमएससी के दोष सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया था। दरअसल खबर है अब वह सर्वे आख़िरकार सामने आ गया है।

जी हां, दरअसल चर्चित बिज़नेस स्टैंडर्ड अखबार की एक रिपोर्ट के अनुसार NSSO की पीरियाडिक लेबर फोर्स सर्वे रिपोर्ट बताती है कि देश में बेरोजगारी की दर साल 2017-18 में 45 सालों में सबसे ज्यादा 6.1 % पर पहुंच गई.

जिन एनएससी के सदस्यों ने इस्तीफा दिया था उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने एनएससी की मंजूरी के बावजूद रिपोर्ट को जारी नहीं किया। दरअसल इस रिपोर्ट के अनुसार 1972-73 के बाद से बेरोजगारी की दर अपने उच्चतम स्तर पर है.

2017 -18 में कुछ ऐसा रहा बेरोजगारी का हाल

Loading...

बता दें कि साल 2017-18 के दौरान शहरों में बेरोजगारी दर जहां 7.8 % रही वहीं ग्रामीण इलाकों में बेरोजगारी दर 5.3 % रही. एक और आंकड़े के अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों में पुरुष बेरोजगारी दर 17.4 % तक पहुंच गई जबकि इस दौरान महिला बेरोजगारी दर ग्रामीण क्षेत्रों में 13.6 % रही. वहीं शहरी इलाकों की बात करें तो 2017-18 में पुरुषों की बेरोजगारी दर 18.7% रही तो महिलाओं की 27.2 % रही।

दरअसल इस रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया है कि नोटबंदी के बाद नौकरियों में ज्यादा नुकसान हुआ है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.