Loading...

बीते 4 साल में बनाए गए 1 करोड़ से ज्यादा मकान, खोले गए 34 करोड़ बैंक अकाउंट: रामनाथ कोविंद

0 18

गुरुवार को देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बजट सत्र की शुरुआत से पूर्व दोनों सदनों को संबोधित करते हुए मोदी सरकार की नीतियों पर अपने विचार रखे। दरअसल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि बीते 4 साल के दौरान 1 करोड़ से ज्यादा घरों का निर्माण हुआ है।

उन्होंने कहा कि गांव और शहर दोनों ही जगह सरकार ने हैल्थ से संबंधित इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत किया। नए मेडिकल कॉलेज खोले गए और सरकारी जिला अस्पतालों को अपग्रेड किया गया।

इसके साथ ही इस पीरियड के दौरान लगभग 34 करोड़ लोगों के बैंक अकाउंट भी खोले गए।

जीएसटी है बिजनेस सेक्टर के लिए वरदान

Loading...

राष्ट्रपति ने जीएसटी के संबंध में भी अपने विचार प्रस्तुत किए। राष्ट्रपति ने कहा कि यह एक लॉन्ग टर्म पॉलिसी है और यह बिजनेस सेक्टर के लिए वरदान है।

राष्ट्रपति कोविंद ने आगे कहा, ” वर्ष 2014 के चुनाव के बाद से देश अनिश्चितता के दौर में था ऐसे में इस सरकार ने इसे दूर करने का जिम्मा उठाया। सरकार ने तय किया कि लोगों को सुविधाएं पहुंचें। पहले जो बच्चा बिजली के अभाव में पढ़ नहीं पता था, वो युवा कर्ज न मिल पाने के कारण रोजगार भी शुरू नहीं कर पाता था लेकिन इस सरकार ने इन सब परेशानियों का समाधान निकालते हुए लोगो की जरूरतों को पूर्ण किया।”

13 करोड़ लोगो को गैस कनेक्शन से जोड़ा

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, ” सरकार ने 6 करोड़ से ज्यादा गैस कनेक्शन दिए। बीते साढ़े चार साल में सरकार ने 13 करोड़ लोगों को गैस कनेक्शन से जोड़ा। सरकार ने पिछले साल आयुष्मान योजना शुरू की। 10 लाख लोग इसका लाभ उठा चुके हैं। वहीं प्रधानमंत्री जनऔषधि योजना के तहत 4 हजार जनऔषधि केंद्र शुरू किए जा चुके हैं।”

9 करोड़ से ज्यादा शौचालय बने

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, ” इस सरकार में 9 करोड़ से ज्यादा शौचालय बने हैं। शौचालयों के बनने से गरीबों की बीमारियों से रक्षा हो पा रही है। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर हमने देश को खुले में शौच से मुक्त बनाने के फैसला किया।”

राष्ट्रीय कुपोषण मिशन है बेहद महत्वपूर्ण

राष्ट्रपति ने कहा, “ये सरकार कुपोषण दूर करने के लिए भी काम कर रही है। सरकार ने इसी संबंध में राष्ट्रीय कुपोषण मिशन शुरू किया है। दूरदराज स्थित लोगों को टीकाकरण की सुविधा मिले, इसके लिए इंद्रधनुष योजना शुरू की गई है। इसके अलावा देश में नए एम्स बनाए जा रहे हैं। गांव में चिकित्सकों की कमी दूर करने के लिए मेडिकल कॉलेज में 31 हजार सीटें जोड़ी गई हैं।”

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.