Loading...

चीन की ये दवा कंपनी पाल रही है 600 करोड़ कॉकरोच, वजह जान रह जाएंगे दंग

0 28

कई लोगों को कॉकरोच बिल्कुल भी पसंद नहीं होता है तो वहीं कई लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हें कॉकरोच से काफी डर लगता है। लेकिन आपको बता दें कि चीन के लोगों के लिए यह कमाई का बड़ा जरिया है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कॉकरोच संभावित औषधीय गुणों के चलते ही चीनी उद्योग के लिए व्यवसायिक अवसर की तरह है। आपको जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ चीन ही नहीं बल्कि कई एशियाई देशों में कॉकरोच को तलकर खाया जाता है। लेकिन मौजूदा समय में अब कॉकरोचों को बड़े पैमाने पर पैदा किया जाने लगा है। जी हां तभी तो चीन के शीचांग शहर में मौजूद एक दवा कंपनी हर साल करीब 600 करोड़ कॉकरोचों को पालती है।

वहीं अगर साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की मानें तो उनके मुताबिक एक बिल्डिंग में इन सभी कॉकरोचों का पालन किया जा रहा है। दरअसल इस बिल्डिंग का क्षेत्रफल करीब 2 खेल के मैदानों के बराबर है। वहां पर इन कॉकरोचों को अलमारियों की पतली कतारों में पाला जाता है। इसके साथ ही उनके लिए खाने और पानी का इंतजाम भी किया जाता है। बिल्डिंग के अंदर कमरों में बिल्कुल घुप्प अंधेरा होता है और साथी बिल्डिंग के अंदर के वातावरण में नमी और सीलन को बराबर बनाकर रखा जाता है। इसके साथ ही फार्म के अंदर मौजूद कीड़ों को घूमने और प्रजनन करने की पूरी आजादी दी जाती है।

इस दौरान उन्हें सूरज की रोशनी से काफी दूर रखा जाता है और वो कीड़े बिल्डिंग से बाहर बिल्कुल भी ना जा पाएं इसके लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम से कॉकरोच पालन के ऊपर पूरी नजर रखी जाती है। जी हां इसी के जरिए ही बिल्डिंग के अंदर का तापमान, उनके खाने की उपलब्धता और नमी के ऊपर पूरी नजर रखी जाती है। इन लोगो लक्ष्य होता है कम समय में ज्यादा से ज्यादा कॉकरोचों को पैदा करना।

Loading...

आपको बता दें कि जब कॉकरोच व्यस्क हो जाते हैं तो उन्हें कुचल दिया जाता है और फिर शरबत की तरह चीन की परंपरागत दवाई के रूप में इन्हें पिया जाता है। इसका उपयोग दस्त, उल्टी, पेट के अल्सर, सांस की परेशानी और अन्य कई बीमारियों के इलाज के लिए होता है। वही शानडॉन्ग एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और इंसेक्ट एसोसिएशन ऑफ शानडॉन्ग प्रोविंस के निदेशक लियू यूशेंग ने द टेलीग्राफ अखबार को दिए गए एक इंटरव्यू में बताया कि वह दवा अपने आप में ही एक चमत्कारी दवा है। इसके साथ ही उन्होंने आगे ये भी कहा कि आप इसके जरिए कई बीमारियों का इलाज आसानी से कर सकते हैं और यह दवा बाकी अन्य दवाओं की तुलना में बहुत जल्दी अपना असर दिखा देती है।

इसके साथ ही प्रोफेशन लियू ने यह भी कहा कि मौजूदा समय में बुजुर्ग आबादी चीन की सबसे बड़ी समस्या है और हम लोग ऐसी नई दवा खोजने की कोशिश लगातार कर रहे हैं। और हमारी यह दवा पश्चिमी देशों की दवाई से काफी सस्ती होने वाली है। दवाई के लिए किए जाने वाला कॉकरोचों का पालन सरकारी योजनाओं का ही एक हिस्सा होता है और आपको बता दें कि इस तरीके से बनाई गई दवाइयों का उपयोग अस्पतालों में भी किया जाता है। लेकिन कई ऐसे भी लोग हैं जिन्होंने इस बात के ऊपर अपनी चिंता जाहिर कर दी है। वही बीजिंग के चाइनीज एकेडमी ऑफ मेडिकल साइंस के एक शोधकर्ता ने अपना नाम ना बताने की शर्त पर बताया कि कॉकरोच का शरबत लोगों के लिए उनके रोगों को दूर करने के लिए रामबाण इलाज बिल्कुल भी नहीं हैं।

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि यह हर तरह की बीमारी के ऊपर जादुई असर नहीं करता है और एक बंद जगह पर इस तरह कीड़े को पालना और उनकी पैदावार को और ज्यादा बढ़ा देना काफी खतरनाक हो सकता है। वही चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंस के प्रोफेसर झू केयोडॉन्ग ने कहा कि अगर किसी इंसान की गलती की वजह से या फिर वहाँ पर भूकंप आ जाए तो उसकी वजह से अगर ये सारे कॉकरोच उस बिल्डिंग के बाहर आ गए तो ये हर किसी के लिए काफी विनाशकारी हो सकते हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.