Loading...

‘बाला साहेब’ के किरदार में नवाजुद्दीन सिद्ददकी ने डाली अपनी जान, थरथर कांपे मुंबई के मुसलमान

0 8

बॉलीवुड के जाने माने एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दकी एक बेहद ही मेहनती कलाकार हैं। उन्होंने अपनी निजी जिंदगी में काफी संघर्ष देखे हैं। उन्होंने मुंबई के फुटपाथों पर भी अपना जीवन बिताया है। बहुत कम ही ऐसा होता है जब किसी एक्टर का असल जिंदगी का संघर्ष उसके करियर में किसी किरदार को सांसे देने के लिए भी काम आए। लेकिन शिवसेना प्रमुख रहे बाला साहेब ठाकरे की बायोपिक फिल्म ठाकरे में नवाजुद्दीन सिद्दकी के लिए उनके निजी जिंदगी के अनुभव काफी काम आए हैं। फिल्म को देखकर लगता ही नहीं है कि उत्तर भारतीय के किसी मुसलमान ने एक ऐसे रोल को पर्दे पर उतारा है। जिसके नाम से मुंबई के मुसलमान कांपा करते थे।

आपको बता दें कि नवाजुद्दीन सिद्दीकी के लिए ये फिल्म एककलाकार के लिहाज से उनके लिए एक किवदंती फिल्म बन गई है। राजनीति में दिलचस्पी रखने वालों को ये फिल्म जरूर ही देखनी चाहिए। बता दें कि पूरे महाराष्ट्र का ठाकरे को नेता बना देने के पीछे भी एक पूरी रणनीति काम आती रही है। जो कि फिल्म की अंतर्धारा से ही पता चला है। बाला साहेब ठाकरे का सबसे फेमस नारा है कि जो हिंदू हित की बात करेगा, वही देश पर राज करेगा। बता दें कि ये फिल्म उन भ्रांतियो को तोड़ती है जो ठाकरे कभी भी महाराष्ट्र से बाहर ही नहीं गए।

हिंदी में इस फिल्म में नवाजुद्दीन सिद्दीकी, अमृता राव और महेश मांजरेकर के साथ कई कलाकार हैं जिन्हें शायद ही कोई पहचान पाए। लेकिन अभिजीत पनसे के डायरेक्शन में बनी इस फिल्म में मराठी सिनेमा के कई कलाकारों ने दमदार एक्टिंग की है। नवाजुद्दीन के रोल को ये साथी कलाकार ही मजबूती देते हैं। वहीं अमृता राव की एक्टिंग में मजबूती के साथ सौम्यता भी है। इस फिल्म में वो ठाकरे की प्रेरणा हैं। वहीं अमृता राव के रोल में मजबूती के साथ सौम्यता भी है। वह फिल्म में ठाकरे की प्रेरणा हैं।

जानकारी दे दें कि बॉलीवुड में इन दिनों बायोपिक का दौर सा चल पड़ा है। बायोपिक्स के इसी कम्र में ठाकरे अपनी अलग एक पहचान बनाने में बेहद कामयाब रही है। वहीं नवाजुद्दीन के अपने रोल के प्रति पूरा समर्पण किया है। है। फिल्म का प्रचार प्रसार वॉयकॉम 18 ने अगर हिंदी पट्टी में भी काफी अच्छे से किया होता तो इस फिल्म का की कमाई काफी अच्छी होती।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.