Loading...

8 साल की बेटी ने ट्रेन के टॉयलेट में लिखी बातों का मतलब, जब अपने पापा से पूछा तो कोई जवाब नहीं दे पाया

0 15

झारखंड के एक आदमी ने सामाजिक मुद्दा उठाया है और लोगों की सोच बदलने की ठान ली है। इनका नाम है उत्तम सिंह और ये झारखंड के धनबाद के निवासी हैं। दरअसल वे जब भी ट्रेन में सफर करते हैं, तो टॉयलेट में लिखे गए बेहूदा कमेंट्स को साफ करना नहीं भूलते। बता दें कि उत्तम जी अब तक 250 से ज्यादा ट्रेनों के टाॅयलेट्स में लिखे भद्दे कमेंट साफ कर चुके हैं।

दरअसल उत्तम बताते हैं कि एक साल पहले वे कोलफील्ड एक्सप्रेस से हावड़ा से धनबाद आ रहे थे। साथ में पत्नी अपर्णा और 8 साल की बेटी वर्षा भी थी। ट्रेन कुछ ही दूर चली थी कि बेटी ने टॉयलेट जाने को कहा।

उसके बाद बेटी जब टॉयलेट से बाहर आई तो कुछ ठीक नज़र नहीं आ रही थी। मैंने जब उससे पूछा तो उसने टॉयलेट की दीवारों पर लिखे भद्दे कमेंट्स का अर्थ पूछा। मैं टालता गया, लेकिन उसके सवाल रुक नहीं रहे थे।

मेरे पास उसके सवालों का कोई जवाब नहीं था। मैने जैसे-तैसे बेटी को दूसरी बातों में लगाया और तय किया कि कुछ भी हो जाए अब किसी और पिता को ये दिन नहीं देखना पड़ेगा।

Loading...

इसलिए मैं तुरंत टॉयलेट के अंदर गया और दीवार में लिखे अश्लील वाक्य मिटा दिए। दरवाजा खुला था और कुछ लोग मुझे ऐसा करते देख रहे थे लेकिन मैंने संकोच नहीं किया और अपना काम पूरा किया।

अश्लील कमेंट मिटाने के बाद चिपकाते हैं ट्रेन में पैंफ्लेट

दरअसल उत्तम सिंह ने बताया कि वे अब अश्लील शब्दों को मिटाने के अलावा लोगों को जागरूक भी करते हैं और इसलिए पैंफ्लेट भी लगाते हैं।

वो ट्रेन में जो पैंफ्लेट चिपकाते हैं उन पर लिखा होता है- ‘स्टॉप राइटिंग, इस शौचालय का प्रयोग आपकी मां-बहन भी करेंगी।’

मुहीम पहुंची और जगह तक भी

दरअसल उत्तम सिंह कपड़े के कारोबारी हैं और यही वजह है कि उन्हें अक्सर बिजनेस के सिलसिले में कई शहरों में जाना पड़ता है। इसलिए ट्रेनों में सफर के दौरान वे टॉयलेट चेक करना नहीं भूलते।

अब उन्होंने अब इस मुहिम को ट्रेन से निकाल कर पार्क, सरकारी दफ्तर, बस स्टैंड और होटल के शौचालयों तक भी पहुंचा दिया है। अब वो ट्रेन के अलावा इन जगहों से भी अश्लील टिप्पणियों को मिटाते हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.