Loading...

नए EMV चिप वाले एटीएम कार्ड से भूल कर ना करें ये काम, वरना बड़ी मुसीबत में फंस जाएंगे आप

0 2,492

भारतीय रिजर्व बैंक यानि कि RBI के निर्देश के पश्चात देश के सभी सरकारी और निजी बैंकों ने सुरक्षा मानकों को और मजबूत करने के लिए EMV चिप वाले डेबिट कार्ड जारी कर दिए हैं.

दरअसल अभी तक ग्राहकों के पास ईवीएम चिप के साथ ही मैग्नेटिक स्ट्रिप का डेबिट कार्ड था. लेकिन रिज़र्व के निर्देश के बाद अधिकतर ग्राहकों को नया एटीएम कार्ड इश्यू किया जा चुका है.

हालांकि एटीएम मशीन में नए कार्ड के अनुरूप हुए बदलाव से कार्डधारकों को एक प्रकार की परेशानी झेलनी पड़ रही है. दरअसल एटीएम मशीन में किए गए तकनिकी परिवर्तन के बाद बड़ी संख्या में कार्ड खराब होने की खबरें आ रही हैं.

EMV चिप कार्ड को न करें यूं इस्तेमाल

Loading...

दरअसल चक्कर ये है कि नई मशीन में ट्रांजेक्शन करने के लिए जैसे ही एटीएम में लोग कार्ड डालते हैं तो यह लॉक हो जाता है और फिर खींचने पर बाहर भी नहीं निकलता है.

ध्यान दिला दें कि इससे पहले ऐसा नहीं होता था यही कारण है कि लोग अपनी पुरानी आदत के अनुसार ही एटीएम कार्ड को बाहर की तरफ खींचने लगते हैं.

चूंकि नई मशीन में कार्ड अंदर ही लॉक हो जाता है तो लोग कई बार जोर लगाकर कार्ड को बाहर की तरफ निकालते हैं तो इससे कार्ड डैमेज हो जाता है और फिर कोई ट्रांजैक्शन नहीं हो पता है क्यूंकि मशीन इसे रीड नहीं कर पाती है.

पुराने ATM कार्ड में भी आ रही है समस्या

दरअसल मशीन में आए नए बदलाव के बाद आपका कार्ड तक तक लॉक रहता है जब तक आपका ट्रांजैक्शन संपूर्ण नहीं हो जाता लेकिन लोगो को अभी तक इसकी आदत नहीं है.

इसीलिए अब इस अपडेट को लेकर बैंकों ने एटीएम मशीनों की स्क्रीन केबिन में यह मैसेज दे दिया है कि कार्ड मशीन में डालने के बाद तुरंत न निकालें हालांकि कई ग्राहक अभी भी इस मैसेज पर ध्यान नहीं दे रहे हैं और समस्या उतपन्न हो रही है.

नए EVM चिप वाले कार्ड हैं ज्यादा सुरक्षित

बता दें कि नए EVM चिप वाले डेबिट या क्रेडिट कार्ड मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले कार्ड से ज्यादा सुरक्षित हैं. दरअसल इस चिप में आपके अकाउंट की पूरी जानकारी सुरक्षित रहती है. इसमें जानकारी इनक्रिप्टेड होने से आपके महत्वपूर्ण डाटा की चोरी का खतरा नहीं रहता है.

बता दें कि EMV चिप कार्ड में ट्रांजेक्शन के दौरान उपभोक्ता को सत्‍यापित करने के लिए एक यूनिक ट्रांजेक्‍शन कोड जेनरेट होता है जो सत्यापित होने के बाद ही ट्रांजैक्शन क्लियर करता है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.