Loading...

इस्लाम छोड़कर हिंदू धर्म में वापसी कर ये किन्नर बनी  महामंडलेश्वर, 11 साल की उम्र में हुआ था रेप

0 4

प्रयागराज में इन दिनों धर्म का सबसे बड़ा मेला लगा हुआ है। जी हां वर्तमान समय में प्रयागराज में कुंभ चल रहा है। बता दें कि इस बार कई अखाड़ों ने प्रयागराज के कुंभ में हिस्सा लिया है। इस बार के कुंभ में किन्नर अखाड़ा की महामंडलेश्वर मां भवानी नाथ वाल्मिकी ने भी स्नान किया है।

बता दें कि मां भवानी नाथ वाल्मीकि के महामंडलेश्वर बनने की कहानी बेहद ही दर्दनाक है। दरअसल मां भवानीनाथ ने अपने जीवन में कई ऐसे दुख-दर्द झेले जिसे जानकर आप भी कराहा उठेंगे और हैरान रह जाएंगे।

मालूम हो कि 2 साल पहले तक किन्नर अखाड़ा की महामंडलेश्वर मां भवानी नाथ शबनम बेगम के नाम से चर्चित थीं। दरअसल मां भवानी नाथ ने वर्ष 2010 में हिंदू धर्म छोड़कर इस्लाम धर्म कबूल लिया था लेकिन 5 साल बाद उन्होंने दोबारा हिंदू धर्म अपना लिया।

फिर साल 2016 में वो अखिल भारतीय हिंदू महासभा के किन्नर अखाड़े में धर्मगुरु बन गईं। बता दें कि स्वयं स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने साल 2017 में उन्हें महामंडलेश्वर की उपाधि दी है।

Loading...

बता दें कि मां भवानी नाथ के कुल 8 भाई-बहन हैं। उनका जन्म दिल्ली के चांदिकापुरी इलाके में हुआ था और परिवार बेहद गरीब था और खाने पीने के लाले थे।

जब मां भवानी नाथ 10 साल की हुईं तब उन्हें पता चला कि वो एक किन्नर हैं। इतना ही नहीं एक इंटरव्यू में उन्होंने ये तक बताया था कि जब वो 11 साल की थीं तो किसी करीबी ने उनके साथ रेप भी किया था।

बता दें कि मां भवानी नाथ 13 साल की उम्र में किन्नर समाज के पास चली गई थी। जहां उनकी पहली गुरु नूरी बनी। मालूम हो कि वर्ष 2014 में मां भवानी नाथ ने सुप्रीम कोर्ट में जाकर स्त्री-पुरुष के अलावा थर्ड जेंडर का नाम जुड़वाया था।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.