Loading...

टीवी ही नहीं, बल्कि कैंसर की वजह से भी रह सकती है लगातार खांसी

0 8

लोग खांसी को एक साधारण सी बीमारी समझकर उसका उपचार नहीं करते। लेकिन यह खांसी कभी-कभी आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकती है। लोगों को समझ नहीं आता कि खांसी के लिए कब डॉक्टर को दिखाने की जरूरत है और कब नहीं। आज हम आपको खांसी से जुड़ी हर बात के बारे में जानकारी देंगे।

खांसी जुकाम या फ्लू की वजह से तो नहीं

सर्दी-जुकाम वाली खांसी आमतौर पर दो प्रकार की होती है- सूखी या कफ वाली खांसी। अगर गाढ़ा कफ या बलगम बन रहा है तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। खांसी फ्लू की वजह से भी हो सकती है। फ्लू की वजह से खांसी लगभग 1 सप्ताह तक होती है और यह अपने आप ठीक हो जाती है।

क्या करें सर्दी जुकाम

खांसी की सामान्य दवाएं फार्मासिस्ट की सलाह पर भी ली जा सकती हैं। ऐसे में आपको तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए। साथ ही गर्म चीजें तथा भाप लेने से नाक और छाती को आराम मिलता है।

खांसी धूम्रपान की वजह से तो नहीं

जो लोग धूम्रपान करते हैं उनको अक्सर खांसी की समस्या हो जाती है। इससे उनको सांस लेने में भी तकलीफ होती है। धूम्रपान करने वाले लोगों को सुबह के समय इस परेशानी का ज्यादा सामना करना पड़ता है। खांसी दिल की समस्याओं जैसे हार्ट फैलियर का भी एक संकेत हो सकती है।

क्या करें

जो लोग धूम्रपान करते हैं वे आज ही इस आदत को छोड़ दे। इसके लिए आप डॉक्टरों की सलाह ले सकते हैं। लेकिन जिन को लंबे वक्त से खांसी है और टकनों में सूजन है तो उन्हें तुरंत डॉक्टर से जांच कराने की आवश्यकता है।

कहीं आपकी खासी कैंसर का लक्षण तो नहीं

कभी-कभी खांसी कैंसर का लक्षण भी हो सकती है। अगर ज्यादा समय तक खांसी ठीक ना हो तो यह गंभीर बीमारी का संकेत है। अगर खांसी में कफ के साथ खून आने लगे तो डॉक्टर से तुरंत जांच करवाएं। यह चेस्ट इनफेक्शन या फेफड़ों के कैंसर की वजह से भी हो सकती है। शोध के मुताबिक एक-तिहाई लोग फेफड़ों के कैंसर के संभावित संकेतों की पहचान नहीं कर पाते। इसलिए यही बेहतर होगा कि आप अपनी सेहत के प्रति लापरवाही ना बरतें।

क्या करें

आप इसके लिए तुरंत ही डॉक्टर से जांच करवाएं। बिल्कुल भी लापरवाही ना बरतें।

खांसी अस्थमा तो नहीं

कभी-कभी खांसी अस्थमा की वजह से भी हो सकती है। इस प्रकार की खांसी में लोगों को छाती में कसाव और सांस लेने में तकलीफ महसूस होती है। इस प्रकार की खांसी पराग, धूल, सिगरेट का धुआं, ठंडी हवा या पालतू जानवरों के करीब आने से बढ़ जाती है।

क्या करें

ऐसे में आप तुरंत ही अपने डॉक्टर से परामर्श करें। अस्थमा जल्द ही गंभीर रूप ले सकता है। इसीलिए तुरंत उपचार करवाएं।

Loading...

लंग इनफेक्शन तो नहीं

जिन लोगों को 3 सप्ताह से खांसी है तो यह लंग इनफेक्शन का कारण भी हो सकती है। अगर आपको सांस लेने में तकलीफ होती है, आवाज में घरघराहट, टकनों में सूजन, सीने में जलन और निरन्तर वजन में कमी दिखाई दे तो यह फेफड़ों के संक्रमण से हो सकता है।

क्या करें

इन लक्षणों को देखने के बाद आप डॉक्टर से परामर्श लें और अपनी जांच करवाएं। फेफड़ों का संक्रमण उपचार और दवाइयों से ठीक हो जाता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.