Ultimate magazine theme for WordPress.

ये हैं 5 ऐसे झूठ जिन्हें दुनिया आज तक मानती आयी है सच, लेकिन हकीकत तो कुछ और ही है

0 11

हमें बचपन से ही कई ऐसी बातें सिखा दी जाती हैं। जिन्हें हम सच मान लेते हैं। हम इन बातों को बिना सत्यापित किए ही इन पर अमल करने लगते हैं। मगर आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं। जो कि सरासर गलत है। लेकिन हम उन बातों को आज भी मान रहे हैं। आज हम आपको बताएंगे कि यह बातें कैसे गलत हैं और इन बातों के बीच क्या वैज्ञानिक तथ्य है।

इन 5 बातों को हम आज तक मानते हैं सच

1- शेव करने से बाल घने आते है

पहला झूठ यह है कि शेव की जाए तभी दाढ़ी और मूंछों के बाल घने आते है। दरअसल, शेविंग का बालों से कोई लेना देना नहीं होता। जानकारी के लिए बता दें कि दाढ़ी और मूंछ के बाल उगना एक हार्मोनल प्रक्रिया है। जो उम्र के हिसाब से होती है।

2- एंटी-बैक्टीरियल साबुन

अक्सर ऐसा कहा जाता है कि एन्टीबैक्टीरियल साबुन से बैक्टीरिया मर जाते है। ये एकदम सफेद झूठ है क्योंकि साबुन से कोई बैक्टीरिया नही मरते मगर साबुन उन्हे धोकर हमारे शरीर से दूर ज़रूर कर देता है, इसीलिए हमेशा साबुन से नहाना चाहिए।

3- कसरत के बाद का दर्द

ऐसा माना जाता है कि कसरत करने के बाद हमारे शरीर मे जो दर्द होता है उससे हमारे शरीर मे मास बढ़ता है और हमारी बॉडी बनती है। दरअसल ये भी एक झूट है ,शरीर के उस दर्द से आपकी बॉडी बनने का कोई भी संबंध नही है। हमारे शरीर में यह दर्द सूक्ष्म ट्रौमा की वजह से होता है।

4- एंटीबायोटिक दवाएं

जब हम किसी वायरस की चपेट में आते है डॉक्टर हमें सबसे पहले एंटीबायोटिक दवाएं लेने की सलाह देता है। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि एंटीबायोटिक दवाएं सिर्फ बैक्टीरिया को खत्म करती है। दरअसल, अब तक जुखाम और सर्दी की कोई कारगर दवा नहीं बन पायी है।

5- टीवी देखने से आंखे ख़राब होती है

अक्सर ज्यादा करीब से टीवी देखने या फिर अंधेरे में टीवी देखने से आंखों की रोशनी चली जाती है। ऐसा कहा जाता है। जो की सरासर झूठ और गलत है। बल्कि ये सिर्फ आँखों को हल्का तनाव देते है। ये विज्ञान की एक रिपोर्ट में साबित हुआ है।

Loading...
Comments
Loading...