Ultimate magazine theme for WordPress.

अगर बनवाना है ड्राइविंग लाइसेंस तो आप इस तरह से कर सकते हैं ऑनलाइन आवेदन, जानें पूरा प्रोसेस

0 910

ये तो हम सबको पता ही है कि बिना ड्राइविंग लाइसेंस के हम कोई भी वाहन नहीं चला सकते, और अगर हम या आप ऐसा करते हैं तो कानून का उल्लंघन होता हैं. दरअसल अब लाइसेंस बनवाने के लिए सरकार नियमों को लगातार आसान बनाती जा रही है. अब तो 16 वर्ष आयु के नाबालिग भी ई-बाइक्स चालने के लिए अपना लाइसेंस बनवा सकते हैं.

अगर आप भी लाइसेंस बनवाने का सोच रहे लेकिन आरटीओ के चक्कर काटने से डर रहे हैं तो हम बता दें कि आप ऑनलाइन भी आवदेन कर सकते हैं. शुरू में आपको लर्निंग लाइसेंस बनवाना होगा. 6 महीने बाद पक्का लाइसेंस बनता है.

ऑनलाइन करें यहां पर अप्लाई

आप राजमार्ग मंत्रालय की वेबसाइट पर जाकर एप्लाई कर सकते हैं. आप https://parivahan.gov.in/sarathiservice10/stateSelection.do पर जाएं. यहां राज्यों की सूची दी गई है. सबसे पहले अपना राज्य चुनें. उसके बाद लर्नर के लिए ऑप्शन होता है. वहां क्लिक करने पर पूरा फॉर्म खुलता है. फॉर्म भरने के बाद एक नंबर जेनरेट होगा जिसे सेव कर लें. यहां आपको उम्र प्रमाण पत्र, एड्रैस प्रूफ, आईडी प्रूफ अटैच करना होता है.

बता दें कि इस प्रक्रिया के बाद अपना फोटो और डिजिटल सिग्नेचर आपको अपलोड करना होगा. ततपश्चात ड्राइविंग टेस्ट के लिए स्लॉट बुक कराना होगा. बता दें कि स्लॉट का चुनाव करने के दौरान फीस भी भरनी होती है.

ऑनलाइन भी होता है टेस्ट

बता दें कि आपको निर्धारित फीस जमा करने के बाद RTO ऑफिस जाकर टेस्ट देना होगा. यह टेस्ट ऑनलाइन होता है और इसमें यातायात के नियमों तथा यातायात चिह्नों के बारे में पूछा जाता है.

एक प्रश्न के 4 उत्तर होते हैं. सही उत्तर पर क्लिक करने पर दूसरा प्रश्न आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर अपने आप उभर आता है.

बता दें कि जैसे-जैसे आप सवालों के जवाब देते जाएंगे, उनके सही या गलत उत्तर के बारे में भी सूचना मिलती रहेगी और टेस्ट पूरा करते ही आपके सामने आपका रिजल्ट आ जाएगा कि आप पास हुए या फिर फेल.

बीता दें कि टेस्ट में पास हो जाने पर 48 घंटे के भीतर ऑनलाइन लर्निंग लाइसेंस आपको मिल जाएगा. मालूम हो कि इसकी बैधता 6 महीने की होती है. इन्हीं 6 महीनों के दौरान आपको परमानेंट लाइसेंस के लिए अप्लाई करना होगा.

जानकारी के लिए बता दें कि लर्निंग लाइसेंस मिलने के बाद आपको दोबारा ऑनलाइन अप्लाई करके अपने वाहन के साथ आरटीओ ऑफिस आकर ड्राविंग का टेस्ट देना होता है. ये टेस्ट पास करने पर आपको 6 महीने के अंतराल के बाद परमानेंट लाइसेंस मिल जाता है.

Loading...
Comments
Loading...