Loading...

मोदी सरकार अब वृद्धों, दिव्यांगों और विधवा को देने वाली है बड़ी खुशखबरी, 5 गुना हो जाएगी पेंशन

0 49

2019 के लोकसभा चुनावों से पहले केंद्र की मोदी सरकार ने देश के वृद्धों, दिव्यांगों और विधवा महिलाओं को बड़ा तोहफा देने की तैयारी की है। सूत्रों के अनुसार, केंद्र सरकार वृद्धों, दिव्यांगों और विधवा महिलाओं की पेंशन को पांच गुना करने की तैयारी कर रही है। ऐसा माना जा रहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र की मोदी सरकार वोटरों को लुभाने का कोई भी तरीका नहीं छोड़ रही है यह फैसला भी इस कड़ी का एक हिस्सा माना जा रहा है। 15 जनवरी को होने वाली सामाजिक सहायता कार्यक्रम की बैठक में इस पर फैसला भी लिया जा सकता है। यह बैठक केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव की अध्यक्षता में होगी।

3 करोड़ लोगों को होगा फ़ायदा

एक सरकारी आंकड़ों के अनुसार, इस समय देश में करीब 3 करोड़ लोगों को पेंशन दी जाती है। इसमें करीब 2.40 करोड़ बुजुर्ग, 60 लाख विधवाएं और 10 लाख दिव्यांग शामिल हैं। अलग-अलग राज्यों में इनकों प्रतिमाह 200 रुपए से लेकर 500 रुपए तक पेंशन दी जाती है। अब सरकार की योजना इन सभी को कम से कम 1000 रुपए की पेंशन देने की योजना है। इसके लिए ग्रामीण विकास मंत्रालय ने सामाजिक आर्थिक जनगणना के आधार पर 48 हजार करोड़ रुपए की योजना का प्रस्ताव पेश किया है।

Loading...

1 अप्रैल से दी जाएगी बढ़ी हुई पेंशन

केंद्र सरकार ने आने वाली 15 जनवरी को होने वाली बैठक के लिए सदस्य राज्यों, स्वयंसेवी संस्थाओं समेत सभी हिस्सेदारों को बुलाया है। इसमें सभी हिस्सेदारों से पेंशन के मद में दी जाने वाली राशि के लिए केंद्र और राज्य का शेयर तय करने पर चर्चा की जाएगी। ऐसा माना जा रहा है कि, सरकार केंद्र और राज्य का शेयर 50-50 फीसदी करने पर सहमति बना सकती है। बढ़ी हुई पेंशन 1 अप्रैल 2019 से दी जाएगी। इससे केंद्र पर हर साल करीब 50 हजार करोड़ रुपए का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा।

अलग अलग राज्य में अलग-अलग है पेंशन

अभी तक सभी राज्यों में अलग-अलग पेंशन दी जाती है। दिल्ली, हरियाणा और आंध्र प्रदेश में वृद्धावस्था पेंशन के रूप में 1000 हजार रुपए देते हैं। तो वहीं यूपी, बिहार, राजस्थान, महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश में 300 से 650 रुपए तक की राशि प्रदान की जाती हैं। केंद्र की इस योजना से देश के करीब 3 करोड़ लोगों को फायदा होगा।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.