Loading...

PM मोदी ने विदेश दौरों पर चार्टर्ड उड़ानों में खर्च किए 2 हज़ार करोड़ रुपए, लेकिन कितना ला पाए निवेश

0 25

जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गद्दी संभाली है तब से ही उनकी विदेश यात्राएं काफी चर्चा में रही है. उनपर विदेश यात्राओं को लेकर काफी निशाने साधे गए हैं.

बीते चार सालों में भी लगातार विपक्ष के निशाने पर मोदी की विदेश यात्राएं ही रही हैं. एक समाचार एजेंसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रधानमंत्री की विदेश यात्राओं में चार्टर्ड उड़ानों पर 2,021 करोड़ रुपये से अधिक का खर्चा आया है.

इस रिपोर्ट के मुताबिक जब 2009 से 2014 तक यूपीए -2 सत्ता में थी तब प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के द्वारा की यात्राओं का खर्चा 1,346 करोड़ रुपये था.

मालूम हो कि मोदी ने इस दौरान 48 यात्राओं में 55 से अधिक देशों का दौरा किया है जबकि मनमोहन ने 38 विदेशी यात्राओं में 33 देशों का दौरा किया.

Loading...

लेकिन मोदी की इन यात्राओं से कितना निवेश भारत में आया इस पर राज्यसभा में सवालों का जवाब देते हुए विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने अपने विचार रखे।

वी के सिंह ने गुरुवार को बताया कि मोदी 2014 के बाद से पीएम मोदी ने ऐसे 10 देशों की यात्रा की जहां से को सबसे अधिक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश प्राप्त हुआ.

उनहोंने गुरुवार को राज्यसभा को बताया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 35.94 करोड़ रुपये की चार यात्राओं के लिए चार्टर्ड उड़ानों के लिए बिल धन की कमी के कारण तय नहीं किए गए हैं.

और इनमें स्वीडन, यूनाइटेड किंगडम और अप्रैल में जर्मनी, मई में रूस, मई में इंडोनेशिया, मलेशिया और सिंगापुर और जून में चीन शामिल हैं.

दरअसल इस संबंध में कांग्रेस सांसद संजय सिन्हा ने उन देशों की जानकारी मांगी थी जहां प्रधानमंत्री ने दौरा किया था और उन देशों से आने वाले निवेश का आंकड़ा बताने को कहा था.

इसी का जवाब देते हुए राज्यमंत्री ने कहा कि देश का वार्षिक एफडीआई 2014 में 30,930.5 मिलियन डॉलर से बढ़कर 2017 में 43,478.27 मिलियन डॉलर हो गया है.

वहीं 2014 और जून 2018 के बीच संचयी एफडीआई 136,077.75 मिलियन डॉलर रहा, जबकि 2011 से 2014 के बीच यह 81,843.71 मिलियन डॉलर था.

मालूम हो की कांग्रेस के सांसद ने विदेश यात्राओं के दौरान दोनों प्रधानमंत्रियों यानि कि मोदी और मनमोहन के साथ गए व्यक्तियों, आधिकारिक और गैर-आधिकारिक लोगों के नाम और पदनाम के साथ प्रत्येक यात्रा पर उद्देश्य और कुल खर्चे की मांग की थी.

इस पर मंत्री वी.के. सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्रियों के साथ आने वाले अधिकारियों पर मांगी गई जानकारी संवेदनशील होती है इसलिए उसे साझा नहीं किया जा सकता है.

जानकारी के लिए आपको बता दें कि सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के मुताबिक 15 जून 2014 से 3 दिसंबर 2018 के बीच प्रधानमंत्री के विमानों पर 1,583.18 करोड़ रुपये और चार्टर्ड उड़ानों पर 429.25 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.