Loading...

केंद्र की मोदी सरकार हर दिन चुका रही है 1450 करोड रुपए ब्याज, कैसी है देश की आर्थिक स्थिति

0 25

मोदी सरकार भारत को दुनिया की सबसे तेज उभरती हुई अर्थव्यवस्था कह रही हो मगर आज भी भारत सरकार द्वारा की गई आमदनी का बड़ा हिस्सा सरकार द्वारा लिए गए कर्ज को चुकाने में चला जाता है। वित्त मंत्रालय द्वारा पेश किए गए आंकड़ों के हिसाब से मोदी सरकार कर्ज पर ब्याज चुकाने के लिए औसतन प्रतिदिन 1450 करोड़ रुपये खर्च कर रही है। इसी तरह सब्सिडी देने पर सरकार प्रतिदिन औसतन 600 करोड़ रुपये खर्च करती है।

1450 करोड़ रुपए हर दिन ब्याज पर किए खर्च

वित्त मंत्रालय द्वारा भारत सरकार के नवंबर तक के बहीखातों की जानकारी सार्वजनिक की गई है। इसके मुताबिक चालू वित्त वर्ष में सरकार के कुल राजकोषीय खर्च में ब्याज भुगतान की हिस्सेदारी 3,48,233 करोड़ रुपये रही। इस दौरान सब्सिडी पर 2,19,046 करोड़ रुपये खर्च किए गए। इस तरह सरकार ने हर दिन ब्याज चुकाने पर 1450 करोड़ रुपये खर्च किए। इन आंकड़ों से यह पता चलता है कि सरकार द्वारा लिए गए कर्ज को आज भी देश की जनता को उठानी पड़ती है।

Loading...

8,96,583 करोड़ रुपये सरकार की कुल कमाई
वित्त मंत्रालय ने अपनी रिपोर्ट में यह भी बताया कि नवंबर 2018 तक सरकार को कुल 8,96,583 करोड़ रुपये राजस्व के तौर पर मिले हैं। इसमें टैक्स के रूप में 7,31,669 करोड़ रुपये और गैर-कर आय के रूप में 1,38,637 करोड़ रुपये शामिल हैं। इस दौरान सरकार को विनिवेश से 15,810 करोड़ रुपये मिले, जो तय लक्ष्य के मुकाबले काफी कम है। इस दौरान केंद्र सरकार ने राज्यों को 4,31,963 करोड़ रुपये ट्रांसफर किए हैं।

चालू वित्तीय वर्ष में अनुमान से ज्यादा घाटा

जहां तक खर्च की बात है तो सरकार नवंबर 2018 तक 16,13,208 करोड़ रुपये खर्च कर चुकी है, इसमें से राजस्व खाते में 14,21,778 करोड़ रुपये खर्च किए गए और पूंजी खाते में 1,91,430 रुपये खर्च किए हैं। इस रिपोर्ट से यह आशंका लगाई जा सकती है कि सरकार को चालू वित्त वर्ष में बजट अनुमानों से कई गुना अधिक घाटा हो सकता है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि चुनावी साल में सरकार के ऊपर करों में कटौती करने और खर्च को बढ़ाने का दबाव रहता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.