Loading...

यहां चिकन-पोर्क को छोड़कर लोग इस चीज को खाने के लिए हुए दीवाने, जानकर उड़ जाएंगे आपके होश

0 15

वैसे तो आप लोग जानते होंगे कि नॉर्थिज के जिलों में चिकन और कोर को खाने वालों की तादाद काफी ज्यादा है इनके लिए तो यह पारंपरिक भोजन जैसा है। आजकल यहां के लोग एक नई डिश के दीवाने हो गए और बता दे कि इसके लिए खास एक बाजार लगती है। यह एक ऐसी डिश है जिसको खाने के बारे में आप कभी अपने सपने में भी नहीं सोच सकते तो आइए बताते हैं क्या है वो डिश।

चूहे करते थे फसलें बर्बाद

असम के बक्सा जिले के कुमारिकता गांव के लोग खेती कर अपनी जीविका चलाते हैं, लेकिन रोज रात में चूहे इन्हें फसलों को बर्बाद कर देते थे। इसका उपाय निकालते हुए किसानों ने रोज रात को चूहे मारना शुरू कर दिया

रविवार को लगता है खास बाजार

Loading...

फिर क्या यहां चूहे का मीट बिकने लगा अब यहां पर रविवार को एक खास तरह की मार्केट लगती है जिसमें चूहों का मीट बेचा जाता है चूहों के मीट की डिमांड इतनी बढ़ती जा रही है कि गांव के लोग खासतौर पर्स मार्केट में चूहे का मीट खरीदने आते। यह उनके पारंपरिक भोजन जैसा बन गया।

200 रुपए किलो है चूहे का मीट

स्थानीय लोगों ने बताया कि चूहे का मीट ₹200 किलो तक बिकता है। स्थानीय लोगों ने यह भी बताया कि लोगों को चिकन और पोर्क के बजाय अब चूहों का मीट ज्यादा पसंद आ रहा है किसानों का कहना है कि चूहे रात में अपने बिलों से बाहर निकलते हैं और उनकी फसलों को बर्बाद कर देते हैं, ऐसे में उन्हें मारना जरूरी है। दुकानदार का कहना है कि बिजनेस अच्छा चल रहा है। एक रात में करीब 10 से 20 किलो तक चूहे का मीट मिल जाता हैं। इनका मीट बेचकर वह अपनी जीविका चला रहे हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.