Loading...

अब मोबाइल की तरह घर के बिजली मीटर भी हो जाएंगे प्रीपेड, 1 अप्रैल, 2019 से शुरू होगा काम

0 292

केंद्र की मोदी सरकार ने अब एक बड़ा फैसला लेते हुए आपके पुराने बिजली मीटरों को बदल कर उसकी जगह पर नहीं प्रीपेड मीटर को लगाने का नया फरमान जारी करा है। सरकार ने इसके पीछे दलील दी है कि नए बिजली मीटरों से डिस्ट्रीब्यूशन में होने वाला लॉस कम हो जाएगा। जिसके बाद बिजली का बिल भी पहले से कमाने लगेगा।

मोदी सरकार ने बिजली उपभोक्ताओं के हित में एक बड़ा फैसला लेते हुए यह घोषणा करी है कि अगले 3 सालों में देश भर में बिजली के मीटर बदल देगी अब आपके घर का मीटर स्मार्ट प्रीपेड मीटर होगा इससे बिजली के दाम कम होने के अलावा कई और फायदे भी होंगे हालांकि इस फ़ैसले की शुरुआत अगले साल अप्रैल 2019 से होगी। बिजली मंत्रालय के फैसले में कहा गया है कि सभी मीटर को प्री-पेड कर देने से बिजली वितरण कंपनियों (डिस्कॉम) की लागत काफी कम हो जाएगी और डिस्कॉम आसानी से घाटे से उबर जाएंगी। अभी देश के कई राज्यों की डिस्कॉम भारी घाटे में चल रही है। इस कारण डिस्कॉम के पास बिजली खरीदने के लिए पैसे नहीं होते हैं। बिजली मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि इस फैसले से कम आय वाले उपभोक्ताओं को काफी फायदा मिलेगा।

केंद्र की मोदी सरकार ने उपभोक्ताओं को बिजली का बिल कम करने को लेकर एक फैसला लेते हुए कहा है कि अगले 3 साल में देशभर के सभी बिजली मीटरों को स्मार्ट प्रीपेड मीटर से रिप्लेस कर देगी जिससे कई फायदे होंगे सबसे पहला फायदा यह होगा कि बिजली के ट्रांसलेशन में होने वाला लॉस या डिस्ट्रीब्यूशन भी कम हो जाएगा इसके अलावा वितरण कंपनियों की स्थिति बेहतर होगी और ऊर्जा संरक्षण को भी काफी प्रोत्साहन मिलेगा अभी तक कागजी बिल की व्यवस्था है जिसको भी खत्म करके बिल भुगतान को भी आसान बनाया जाएगा।

एक बार में बिजली बिल देने की नहीं होगी जरूरत
पॉवर मंत्रालय ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने का फैसला गरीब जनता के हित में है इससे उपभोक्ता को पूरे महीने का बिल एक बार देने की जरूरत नहीं होगी इसके बजाय पर अपनी जरूरतों के अनुसार बिल का भुगतान किस तो मैं भी कर सकते हैं इतना ही नहीं बड़े पैमाने पर स्मार्ट प्रीपेड मीटर के विनिर्माण से युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

Loading...

24 घंटे दिन और रात बिजली देने का होगा प्रावधान
सभी राज्य सरकारों ने सभी के लिए बिजली योजना के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किए हैं सभी राज्य सरकारों ने अपने राज्य में उपभोक्ताओं को 23 से 24 घंटे बिजली देने का वादा किया है वितरण लाइसेंस के मुताबिक बिजली कंपनियां अपने उपभोक्ताओं को 24 घंटे दिन और रात बिजली उपलब्ध कराएंगे इसके साथ ही वितरण लाइसेंस में 1 अप्रैल सन 2019 से 24 घंटे बिजली देने का भी प्रावधान होगा।

कंट्रोल रूम से किया जाएगा स्मार्ट मीटर कनेक्ट
स्मार्ट प्रीपेड मीटर की कई सारी खासियत भी हैं सबसे पहले खासियत यह है कि इसकी पूरी जानकारी एक कंट्रोल रूम में होगी हर शहर में बिजली निगम एक कंट्रोल रूम बनाएगा स्मार्ट पीपल मित्रों को कंट्रोल रूम से कनेक्ट किया जाएगा मीटर के अलावा कंट्रोल रूम में भी उपभोक्ताओं की रीडिंग नोट होगी इसके लिए कंट्रोल रूम में एक सॉफ्टवेयर लोड किया जाएगा अगर कोई उपभोक्ता मीटर से किसी भी प्रकार की छेड़खानी करता है तो उसका संकेत तुरंत कंट्रोल रूम के पास पहुंच जाएगा अगर कोई उपभोक्ता समय पर बिजली के बिल का भुगतान भी नहीं करता है तो तुरंत ही कंट्रोल रूम से उसका कनेक्शन काटा जा सकता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.