Loading...

इस राज्य में 1.20 लाख लोगों को नौकरी देगी ये स्टील कंपनी, करने वाली है अरबों डॉलर का निवेश

0 15

नया साल झारखंड वासियों के लिए एक खुशखबरी लेकर आया है। इस्पात की बड़ी कंपनियों में शुमार वेदांता लिमिटेड झारखंड में 45 लाख टन क्षमता वाला इस्पात कारखाना लगाएगी। कंपनी इस संयंत्र पर करीब 3 से 4 अरब डॉलर खर्च करेगी। वेदांता रिसोर्सेज के चेयरमैन ने यह भी बताया कि संयंत्र की स्थापना हाल ही में अधिग्रहीत इलेक्ट्रोस्टील स्टील्स लिमिटेड के तहत की जाएगी।

वेदांता शुरुआत में ईसीएल की 15 लाख टन की क्षमता को बढ़ाकर 25 लाख टन करेगा जिससे इसमें करीब 30 अरब डॉलर का निवेश होगा।

ईसीएल के अंतर्गत यह नया इस्पात संयंत्र होगा मगर बोकारो में उसी स्थान पर ही होगा। इस तरह से यह पुरानी परियोजना में निवेश होगा। करीब 45 लाख टन की क्षमता के लिए तीन-चार अरब डॉलर के निवेश की संभावना है।

नया संयंत्र शुरू होने के बाद ईसीएल की क्षमता लगभग 7लाख टन तक हो जाएगी हालांकि वेदांता रिसोर्सेस के चेयरमैन ने अभी तक इसके लिए कोई समय सीमा का खुलासा नहीं किया है। इस नए संयंत्र के खुलने से करीब 120000 लोगों को रोजगार भी मिलेगा।

Loading...

इस ही साल मार्च में ईएसएल की कॉरपोरेट दिवाला शोधन प्रक्रिया के तहत वेदांता को सफल आवेदक घोषित किया गया था।

अग्रवाल ने बताया कि हमारे पास फिलहाल ईएसएल में 2,200 एकड़ जमीन है। हम और जमीन की तलाश में हैं। इस बारे में झारखंड सरकार का रवैया काफी सहयोग वाला है।

कंपनी ने अपनी पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी वेदांता स्टार लिमिटेड के जरिये ईएसएल का अधिग्रहण कर नए निदेशक मंडल की नियुक्ति भी की थी। अनिल अग्रवाल ने यह भी बताया कि अगले 3 साल में वेदांता तेल और गैस, एल्युमीनियम, जस्ता और चांदी जैसे अन्य क्षेत्रों में करीब आठ अरब डॉलर का निवेश करेगी।

अनिल अग्रवाल ने भारत में वैश्विक तेल कंपनियों को निवेश करने का आ्हान करते हुए कहा कि कि इस चित्र में मंजूरी की काफी आसान प्रक्रिया है। तमिलनाडु में स्थित स्टारलाइट तांबा संयंत्र पर बोलते हुए अग्रवाल ने कहा कि यह दुनिया का सबसे अच्छा तांबा संयंत्र है और इसे फिर से शुरू किया जाना भारत के हित में होगा।

शनिवार को स्टारलाइट कॉपर कंपनी तमिलनाडु के तूतीकोरिन में स्थित तांबा संयंत्र पर एनजीटी द्वारा लगाई गई रोक के खिलाफ उच्चतम न्यायालय जाने की बात के रही थी।

बता दें कि बीते 28 मई को तमिलनाडु सरकार ने प्रदूषण संबंधी चिंताओं को लेकर स्थानीय लोगों के प्रदर्शन के बाद इस संयंत्र को स्थाई तौर पर बंद करने के आदेश दिए थे।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.