Loading...

गर्दन में दर्द की शिकायत को हल्के में लेना पड़ सकता है भारी, हो सकते हैं नोमोफोबिया के शिकार

0 16

घंटो तक मोबाइल में रखे रहने से गर्दन या फिर कंधे में दर्द होने की शिकायत आजकल आम हो गई है अक्सर यह शिकायत उन्हें ज्यादा होती है जो मोबाइल में टेक्स्ट मैसेज करते या फिर वेब ब्राउजिंग करते या फिर मूवी देखते हैं।

आज की हमारी रिपोर्ट इसी पर आधारित है।

नोमोफोबिया से जुड़ा है यह मर्ज

60% युवा नोमोफोबिया यानी फोन की लत का शिकार है। यदि आप लगातार स्मार्टफोन यूज़ करते हैं तो आप भी हो सकते है नोमोफोबिया के शिकार। कई रिसर्च में यह बात सामने आई है। इससे ग्रस्त लोगों की तादाद बढ़ती जा रही है।

Loading...

अधिक स्मार्ट फोन यूज करने से भी होता है-

दो घंटे तक लगातार लाइट चेहरे पर पड़ने से 22 फीसदी तक मेलाटोनिन कम हो जाता है। इससे नींद आने में मुश्किल होती है।

75 फीसदी लोग अपने सेलफोन्स को बाथरूम तक में ले जाते हैं, जिससे हर 6 में से 1 फोन पर ई-कोलाई बैक्टीरिया मिलने की आशंका अधिक हो जाती है। इस बैक्टीरिया से डायरिया या किडनी फेल होने की आशंका हो सकती है।

कम्प्यूटर विज़न सिंड्रोम

अमेरिकी विजन काउंसिल के सर्वे में पाया गया कि 70 फीसदी लोग मोबाइल स्क्रीन को देखते समय अपनी आंखें सिकोड़ते हैं।

यह कम्प्यूटर विज़न सिंड्रोम बीमारी में भी बदल सकता है। जिसमें पीड़ित को आंखें सूखने और धुंधला दिखने की शिकायत हो सकती है।

सांस पर भी असर

यूनाइटेड कायरोप्रेक्टिव एसोसिएशन के अनुसार, लगातार फोन का इ्स्तेमाल करने पर कंधे और गर्दन झुकी रहती है, जिससे शरीर को पूरी या गहरी सांस लेने में दिक्कत होती है। इसका सीधा असर फेफड़ों पर पड़ता है।

आखिर क्या है नोमोफोबिया

ये एक प्रकार का फोबिया है। जिसमें इस बात का फोबिया (डर) होता है कि कहीं आपका फोन खो न जाए और आपको उसके बिना न रहना पड़े। इससे पीड़ित व्यक्ति को नोमोफोन कहा जाता है।

आंकड़े कर रहे हैं आगाह

दुनिया बार के 84% स्मार्टफोन यूजर्स ने एक सर्वे में माना कि वे एक दिन भी अपने फोन के बिना नहीं रह सकते हैं।

20% लोगों हर 10 मिनट में अपना फोन चेक करते हैं।

37% एडल्ट्स और 60% टीनएजर्स मानते है कि उन्हें अपने स्मार्टफोन की लत है।

45% स्मार्टफोन यूजर्स ने माना कि फोन खो जाने पर उन्हें घबराहट या चिंता सताने लगती है।

50% स्मार्टफोन यूजर्स फिल्म देखने के दौरान भी फेसबुक चेक करते हैं।

12% लोगों ने एक सर्वे में माना है कि स्मार्टफोन का ज्यादा इस्तेमाल से उनके निजी रिश्तों पर सीधा असर पड़ता है।

41% लोग, किसी के सामने मूर्ख न लगें, इससे बचने के लिए वह मोबाइल में उलझे होने की नौटंकी करते। इससे उनका आत्मविश्वास घटता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.