Loading...

कुंवरजी बवालिया की जीत से कांग्रेस को गुजरात में झटका, कांग्रेस छोड़ बीजेपी में हुए थे शामिल

0 17

इन राज्यों में चुनाव आने के बाद गुजरात से बीजेपी के लिए खुश होने वाली खबर आई है यहां पर हुए उपचुनाव में बीजेपी को जीत मिली है। गुजरात के जसदण विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी प्रत्याशी और कैबिनेट मंत्री कुंवरजी बावलिया 19985 वोटों से जीत गए हैं। बावलिया की लगातार छठवीं जीत है। इससे पहले बवालिया कांग्रेस से भी कई बार चुनाव जीत चुके हैं हाल ही में वह बीजेपी में शामिल हुए थे। जसदण में चुनाव जीतने पर मुख्यमंत्री विजय रूपाणी विजय रैली निकालेंगे।

2017 में गुजरात में हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 99 सीट मिली थी जिसके बाद बवालिया कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे। कांग्रेस को छोड़ने के बाद बावलिया ने विधानसभा से इस्तीफा दे दिया था। जिसके बाद उन्होंने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी शिकस्त देते हुए करीब 20000 वोटों से भी अधिक से जीत प्राप्त की है। कुंवरजी बावलिया को 90263 वोट मिले, जबकि कांग्रेस के अवसर नाकिया को 70283 वोट मिले। इसी के साथ ही गुजरात विधानसभा में बीजेपी ने 100 का आंकड़ा छू लिया है।

बता दी की मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने बवालिया को कांग्रेस छोड़ने के बाद तुरंत ही कैबिनेट मंत्री बना दिया था। बावलिया ने भी कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि इतना वरिष्ठ नेता होने पर भी कांग्रेस ने मेरे साथ बहुत बुरा बर्ताव किया। जसदण सीट पर मैं पांच बार विधायक रहा और एक बार लोकसभा सांसद भी रहा। फिर भी मेरे साथ कांग्रेस ने ऐसा दुर्व्यवहार किया इसलिए मैंने कांग्रेस छोड़ी और बीजेपी ने मुझे सम्मान दिया और काम भी दिया।

सीट पर कांग्रेस की भी प्रतिष्ठा दांव पर थी क्योंकि उन्होंने बवालिया के ही शिष्य रहे अक्सर नाकिया जो कि ऑटो चलाने वाले हैं, उनको टिकट दिया था। इस सीट पर कांग्रेस ने कई बड़े स्टार प्रचारक जैसे नवजोत सिंह सिद्धू को भी प्रचार के लिए भेजा था।

इस सीट पर कोली समुदाय का काफी वर्चस्व है। यहां करीबन 35% आबादी कोली समाज की है। जो कि कांग्रेस का पारंपरिक वोट रहा है। इसलिए भी शायद कांग्रेस को लग रहा था कि बावलियां के कांग्रेस छोड़ने पर कोली समाज बवालिया का साथ छोड़ देगा। मगर ऐसा ना हुआ बीजेपी ने कांग्रेस के पारंपरिक वोट में सेंधमारी कर इस सीट को छीन लिया है।.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.