Loading...

आईसीसी ने दी बीसीसीआई को चेतावनी, बोली- 160 करोड़ दो वरना भुगतना होगा ये अंजाम

0 10

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड और अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के एक विषय को लेकर खासा टकराव हो रहा है। दरअसल ये विषय है टेक्स और इसी टैक्स को लेकर बीसीसीआई और आईसीसी के मध्य खींचतान की स्थति बनी हुई है और फिलहाल इसका कहीं अंत नजर नहीं आ रहा.

दरअसल ये मुद्दा साल 2016 में भारत में हुए वर्ल्ड टी20 से संबंधित है. इस दौरान भारत सरकार ने आईसीसी को टैक्स में छूट देने से इनकार कर दिया था और सरकार अभी भी उसपर कायम है.

बीसीसीआई ने सरकार को इसको लेकर मनाने की पूरी कोशिश की लेकिन उन्हें कोई कामयाबी नहीं मिली. वहीं आईसीसी ने बीसीसीआई को घाटे की भरपाई के लिए 160 करोड़ रुपये 31 दिसंबर के पहले अदा करने को कहा है.

दरअसल स्टार टीवी जो आईसीसी के सभी टूर्नामेंटों का ऑफिशियल ब्रॉडकास्टर है उसने सभी टैक्सों को काटने के बाद ही आईसीसी को रकम दी थी.

Loading...

अब इस मामले में अपेक्स बॉडी अब चाहती है कि बीसीसीआई उस घाटे की भरपाई करे. मालूम हो कि भारतीय बोर्ड आजकल सुप्रीम कोर्ट के द्वारा गठित प्रशासकों की समिति की देखरेख में चल रहा है. अब उनके पास आईसीसी की डिमांड को पूरा करने के लिए कुल 10 दन ही बचे हैं.

मशहूर क्रिकेट वेबसाइट क्रिकबज़ के अनुसार बीसीसीआई ने आईसीसी से कहा है कि वह वे डीटेल शेयर करे जिसमें ये कहा गया हो कि भारत ने टैक्स में छूट देने की बात कही थी.

यानि साफ़ है कि बीसीसीआई ने इस बात को सिरे से नकार दिया है कि पूर्व प्रेसीडेंट एन श्रीनिवासन ने कहा था कि अगर सरकार की ओर से छूट नहीं मिलती तो बीसीसीआई टैक्स की भरपाई करेगी.

सूत्रों की माने तो बीसीसीआई इस बात पर अड़ी हुई है कि अगर आईसीसी टैक्स मुद्दे को लेकर डीटेल शेयर नहीं करती तो वे आईसीसी को एक नया पैसा नहीं देंगे.

यही नहीं, अगर आईसीसी भारत के रेवेन्यू से पैसा काटती है तो बीसीसीआई आईसीसी के खिलाफ लीगल एक्शन भी ले सकती है.

अब देखने वाली बात होगी की आने वाले समय में जय होता है। क्या आईसीसी इस मुद्दे ओर बीसीसीआई को झुका पाती है या फिर भारतीय क्रिकेट बोर्ड का पलड़ा इस मुद्दे पर भारी रहता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.