Loading...

शिक्षक ने छात्रा से कहा – परीक्षा में अच्छे नंबर चाहती हो तो एक रात के लिए मुझे अपना….

0 37

मां बाप जो कि अपने बच्चों को अच्छे से अच्छे शिक्षण संस्थान में पढ़ाने के लिए मेहनत कर रहे हैं तो वहीं दूसरी और छात्र भी अपने सुनहरे भविष्य को और सुगम बनाने के लिए उच्च शिक्षण संस्थानों में दाखिले के लिए दिन रात एक किए हुए है। इसी बीच कुछ ऐसे भी दिल दहला देने वाले मामले सामने आए हैं जिसमें कि छात्रों पर हो रहे यौन शोषण बढ़ते ही जा रहे हैं ऐसा ही एक मामला नाइजीरिया से सामने आया है। जहां पर एक यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ने अपनी ही कक्षा में पढ़ रही एक छात्रा के साथ यौन संबंध बनाने के लिए उस पर दबाव डाला। परीक्षा में छात्रा को ज्यादा से ज्यादा नंबर देने का लालच देकर उसे बुलाया करता था यह प्रोफेसर और बाद में उसके साथ यौन संबंधों का आनंद लेता था। छात्रा ने अपने ऊपर बीत रही आप बीती सुनाते हुए कहा कि कई दिनों तक उसके टीचर ने उसके साथ यौन शोषण करा जिससे परेशान होकर अंत में उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

वहीं बीते सोमवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट के जज मारूराइन ओयेटेन्यू ने पाया कि यूनिवर्सिटी ओबाफेमी ओवालो के प्रोफेसर रिचर्ड अकिनडेली इससे पहले भी यौन शोषण और भ्रष्टाचार के आरोपी रहे हैं। इस मामले में आरोपी प्रोफेसर के वकील ने उन्हें बचाने के लिए बहुत सारी दलील दी पर कोर्ट ने इन सारी दलीलों को नजरअंदाज करते हुए कहा कि यह बेहद ही दुखद घटना है और इसके बाद उन्होंने आरोपी प्रोफेसर को सजा सुना दी।

नाइजीरिया की कोर्ट ने इस मामले को काफी गंभीरता से लिया और कोर्ट ने आरोपी प्रोफेसर को फटकार लगाते हुए कहा कि इस तरह के प्रोफेसरों से हमें अपने बच्चों को बचाना बहुत जरूरी क्योंकि माता-पिता अपने बच्चों कॉलेज में बड़ी उम्मीदों के साथ पढ़ने के लिए भेजते हैं जहां पर उनके बच्चों के साथ इस तरह का दुर्व्यवहार हो रहा है। यह हमारे समाज के लिए अच्छा संकेत नहीं है। वहीं मामले की पड़ताल करते हुए हमें पता चला कि इससे पहले भी छात्रों ने कॉलेज के मैनेजमेंट से आरोपी प्रोफेसर के बारे में शिकायत करी थी परंतु मैनेजमेंट ने किसी की ना सुनी और प्रोफेसर आए दिन छात्राओं से यौन संबंध बनाने के लिए कहता रहा उन्हें ज्यादा से ज्यादा नंबर लाने का भी लालच देता रहा। यह अपने किस्म का पहला ऐसा केस नहीं है आए दिन इस प्रकार के मामले सामने आते जा रहे हैं। जो कि दिखाता है कि हम मानवता को त्याग चुके हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.