Loading...

स्टीव स्मिथ नहीं खेलेंगे बांग्लादेश प्रीमियर लीग, स्वयं बांग्लादेश ने लगाया बैन, जानिए क्यों

0 11

बांग्लादेश प्रीमियर लीग की गर्वनिंग काउंसिल ने अभी कुछ ही दिनों पहले ऑस्ट्रेलिया के प्रतिबंधित खिलाड़ी और पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ को इस लीग में बैन करने का फैसला लिया था।

इस पर अब बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड का भी जवाब आ गया है। बीसीबी यानि बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने बांग्लादेश प्रीमियर लीग की गवर्निंग काउंसिल द्वारा स्टीव स्मिथ को लीग में न हिस्सा लेने देने के फैसले को सही ठहराया है।

इस मामले में बीपीएल यानी बांग्लादेश प्रीमियर लीग ने स्टीव स्मिथ के साथ करार करने वाली फ्रेंचाइजी कोमिला विक्टोरियंस को कहा है कि अधिकतर फ्रेंचाइजियां स्मिथ को ड्राफ्ट लिस्ट में एक ‘रिप्लेसमेंट प्लेयर’ के तौर पर शामिल करने के पक्ष में नहीं हैं।ज़्यादातर फ्रेंचाइजी स्मिथ को लेकर संतुष्ट नहीं हैं।

गौरतलब है कि इस मामले में अब बीसीबी ने कोमिला विक्टोरियंस को एक पत्र लिखा है। इस पत्र में जो लिखा है उसमें कहा गया है कि 11 दिसंबर को मीरपुर में बीसीबी मुख्यालय में एक बैठक हुई थी। और इस बैठक में फ्रेंचाइजियों ने स्टीव स्मिथ के खिलाने को लेकर विरोध जताया था। इसके बाद इस मसले को बीसीबी के पास भेज दिया गया था।

Loading...

अगर उस पत्र की बात करें तो उस पत्र के मुताबिक, “खिलाड़ियों के ड्राफ्ट नियम फ्रेंचाइजी को ड्राफ्ट से बाहर के खिलाड़ी को सीधे किसी और खिलाड़ी के स्थानापन्न के तौर पर शामिल करने की इजाजत नहीं देते हैं।

इस बात को और फ्रेंचाइजियों की बात को ध्यान में रखते हुए बीसीबी ने बीपीएल गर्वनिंग काउंसिल के स्मिथ को बाहर रखने के फैसले को कायम रखा है। इस कारण स्मिथ बीपीएल-2019 का हिस्सा बनने के योग्य नहीं हैं।” यानि की ये साफ़ है की अब स्टीव स्मिथ को आप बांग्लादेश प्रीमियर लीग में खेलते नहीं देखेंगे।

जहां तक कोमिला विक्टोरियंस की बात है तो आपकी जानकारी के लिए ये बता दें कि अभी तक स्टीव स्मिथ के इस मुद्दे पर कोमिला विक्टोरियंस की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

मालूम हो कि स्टीव स्मिथ को इसी साल मार्च में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ केपटाउन में खेले गए टेस्ट मैच में गेंद से छेड़छाड़ का दोषी पाया गया था और इसी कारण क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने साल भर के लिए स्टीव स्मिथ पर प्रतिबंध लगा दिया था।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.