Loading...

सोनिया गांधी की मां बन तेजी बच्चन ने रखा था उनका ख्याल, ऐसे टूटा दोनों परिवारों में रिश्ता

0 21

आज भले ही गांधी फैमिली और बच्चन फैमिली के रिश्तों में खटास हो। लेकिन एक समय ऐसा था जब इन दोनों परिवारों के बीच में बंहद ही गहरे संबंध थे। दोनों परिवार की दोस्ती काफी लंबे वक्त तक चली। बता दें कि इंदिरा गांधी और अमिताभ बच्चन की मां तेजी बच्चन बेहद ही अच्छी दोस्ती थीं। तेजी बच्चन एक सोशल एक्टिविस्ट के तौर पर सक्रिय थीं। साथ ही एक जाना-पहचाना चेहरा भी बन गई थीं। आज तेजी बच्चन की पुण्यतिथि है। इस मौके पर हम उनसे जुड़ी कुछ खास बातें जानते हैं।

आपको बता दें कि तेजी बच्चन ने मशहूर कवि हरिवंश राय बच्चन से शादी रचाई थी। हरिवंश राय बच्चन की वह दूसरी वाइफ थीं। तेजी बच्चन और हरिवंश राय बच्चन के दो बेटे अमिताभ बच्चन और अजिताभ बच्चन हैं। बता दें कि साल 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या से पहले तक दोनों परिवारों के रिश्ते बहुत ही घनिष्ठ थे। सिर्फ इतना ही नहीं अमिताभ बच्चन और राजीव गांधी की दोस्ती भी काफी मशहूर रही। हम आज आपको दोनों परिवारों के बीच की दोस्ती का एक किस्सा बताने जा रहे हैं।

बता दें कि इटली की रहने वालीं सोनिया गांधी को राजीव गांधी पसंद करने लगे थे। साथ ही वह उनसे शादी करना चाहते थे। राजीव गांधी शादी के इरादे से सोनिया को लेकर भारत पहुंचे गए। जिसके बाद अमिताभ बच्चन 13 जनवरी 1968 की सुबह दिल्ली की कड़ाके की सर्दी में दोनों को पालम एयरपोर्ट पर लेने पहुंचे थे। उस वक्त सोनिया भारत में राजीव गांधी की मंगेतर के रूप में आई थीं।

Loading...

लेकिन एक विदेशी को अपने घर की बहू के रूप में स्वीकार करने के लिए इंदिरा गांधी बिल्कुल भी राजी नहीं हो रही थीं। खबरों के अनुसार, इंदिरा गांधी को जिसके बाद तेजी बच्चन ने ही मनाने का काम किया था। अमिताभ बच्चन की मां तेजी ने राजीव गांधी और सोनिया गांधी की शादी की तैयारियां भी की थीं। जिसके बाद1969 में राजीव गांधी और सोनिया गांधी की शादी भी पक्की हो गई थी। सोनिया और उनका परिवार शादी के बाद कुछ दिनों तक विलिंगडन क्रीसेंट स्थित बच्चन परिवार के घर पर ही ठहरा था।

सोनिया के भारत आने के बाद तेजी बच्चन ने ही उनकी मां का रोल अदा किया था। सोनिया को उन्होंने भारतीय संस्कृति और यहां के तौर तरीकों से वाकिफ कराया था। बता दें कि दोनों परिवारों के बीच रिश्ते तब और भी गहरे हो गए थे जब राजीव गांधी ने साल 1984 में अमिताभ बच्चन को इलाहाबाद सीट से चुनाव मैदान में उतारा था। से चुनाव जीतकर अमिताभ बच्चन एक मशहूर चेहरा बन गए थे। लेकिन फिर बोफोर्स घोटाले में नाम आने के बाद दोनों परिवारों के बीच मतभेद पैदा हो गए थे। साल 1991 में राजीव गांधी की हत्या के बाद दोनों के रिश्ते तेजी से बिगड़ते चले गए थे। गांधी परिवार को यह महसूस हो रहा था कि अमिताभ बच्चन बुरे समय में उन्हें अकेला छोड़कर चले गए थे।

जानकारी दे दें कि तेजी बच्चन को थियेटर और प्ले का भी बेहद ही शौक था। उन्होंने प्ले में लेडी मैकबेथ का रोल निभाया था। साल1973 में तेजी बच्चन को फिल्म फाइनेंस कॉरपोरेशन का अध्यक्ष भी बनाया गया था। जिसके बाद 93 साल की उम्र में अमिताभ बच्चन की मां तेजी बच्चन ने साल 2007 में मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल में अपनी अंतिम सांस ली थी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.