Loading...

पाकिस्तान में काफी तेजी के साथ बढ़ रही है गधों की डिमांड, लोग 35 हजार लगाकर कमा रहे 1000 रू रोजाना

0 14

जहां भारत देश इंजीनियर, डॉक्टर वाले क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है वहिं पाकिस्तान गधों की संख्या में आगे बढ़ रहा है। जी हां ये खबर बिलकुल सच है। और इसका खुलासा खुद पाकिस्तान के न्यूज़ चैनल ने अपनी एक रिपोर्ट में किया है।

दरअसल पाकिस्तान के जियो न्यूज़ के एक रिपोर्ट आज एक खबर खूब वायरल हो रही है। इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पाकिस्तान में तेज़ी से बढ़ रही है गधों की संख्या। पाकिस्‍तान दुनिया का तीसरा ऐसा देश बन गया है, जहां गधों की आबादी सबसे ज्‍यादा है और लोग इनका इस्तेमाल अपने बिजनेस के लिए कर रहे हैं।

पाकिस्तान के इस टीवी चैनल के मुताबिक, पाकिस्तानी एक बार 40 हजार रुपए में गधा खरीद कर रोजाना 1000 रुपए तक कमा रहे हैं और इसे अब वहां फायदे का सौदा माना जा रहा है। और लोग इसे ही अपना नया बिज़नस भी बना रहे हैं।

50 लाख गधे हैं पकिस्तान में

Loading...

पाकिस्तान के प्रसिद्ध न्यूज चैनल जियो न्‍यूज के मुताबिक गधों के मामले में अब पकिस्तान चीन और इथोपिया से भी आगे है। रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्‍तान में गधों की संख्‍या बढ़कर पांच मिलियन यानी 50 लाख के भी पार पहुंच गई है।

इसमें पंजाब प्रांत का लाहौर ऐसी जगह है जहां पर गधों की आबादी सबसे ज्‍यादा है। वहीं इस संबंध में पाकिस्‍तान इकोनॉमिक सर्वे 2017-2018 में एक जानकारी भी दी गई है। इस जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान में गधों की संख्‍या 53 लाख पहुंच गई है।

35 से 55 हजार में मिलता है गधा

जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार सिर्फ लाहौर में 41 हजार से अधिक गधे हैं। वहां के लोगों ने रिपोर्टर को बताया कि 35 से 55 हजार रुपए में एक गधा मिल जाता है। कम उम्र के गधे की कीमत कम होती है, लेकिन 4 साल का होने के बाद उससे काम लेना शुरू कर दिया जाता है और वह 12 साल की उम्र तक काम करता है।

स्थानीय लोग एक गधे से 900 से 1000 रुपए तक कमा लेते हैं। इन गधों का इस्तेमाल माल ढुलाई में किया जाता है।

पंजाब सरकार ने बनाया गधों के लिए अस्पताल

गधों की बढ़ती संख्या देखकर स्थानीय प्रशासन भी सतर्क हो गया है। पंजाब सरकार ने तो बकायदा एक अस्पताल बना कर वहां गधों का मुफ्त इलाज भी शुरू कर दिया है। उन्हें गंभीर बीमारी से बचाने के लिए दवा भी पिलाई जाती है। लाहौर में अस्पताल खुलने से गधे पालने वाले काफी खुश हैं।

गधा विकास कार्यक्रम पर अरबों खर्च

उधर, बीबीसी डॉट कॉम की एक रिपोर्ट से आप चौंक जाएंगे। दरअसल बीबीसी की इस रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान ने2017 में देश में ‘गधा विकास कार्यक्रम’ शुरू किया था। जी हां आपने सही पढ़ा। यही नहीं इस योजना में पाकिस्तान ने अरबों रुपये का निवेश भी किया है। दरअसल, ये निवेश खैबर-पख्तूनख्वाह में चीन के निवेशकों को आकर्षित करने के लिए किया गया है।

गधों का होता है एक्सपोर्ट

इस मामले में एक रिपोर्ट के अनुसार गधे के निर्यात से मिलने वाली आय का सकल राष्ट्रीय उत्पाद का अहम हिस्सा है। गधों का एक्सपोर्ट चीन में किया जाता है। दरअसल ऐसा इसलिए है क्योंकि चीन में गधे के मांस की डिमांड बहुत अधिक है इसलिए लोग एक समय के बाद गधे को बेच देते हैं जिसे फिर चीन भेज दिया जाता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.