Loading...

क्या आप जानते हैं कि क्यों शुरू किया गया नसबंदी अभियान और कितने लोगों की हुई जबरदस्ती नसबंदी

0 18

हमेशा से ही सरकारों ने अलग – अलग तरीके अपनाकर बढ़ती जनसंख्या को रोकने की कोशिश की हैं। बता दे इस मामले में अभी तक सबसे बड़ा कदम नसबंदी का उठाया गया था। 1971 की जनसंख्या के अनुसार भारत की जनसंख्या 54.81 करोड़ थी। जिसके बाद लगातार बढ़ती जनसँख्या को रोकने के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की सरकार ने कठिन कदम नसबंदी की शुरुवात की थी।

सरकार ने उस समय कई नियम बनाये कई अभियान भी चलवाये लेकिन लोगों पर इसका कोई भी असर देखने को नहीं मिला। जिसके बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को न चाहते हुए भी नसबंदी’ जैसे कार्यक्रम की शुरुवात करनी पड़ी। इसके बाद जून साल 1975 में इंदिरा गांधी सरकार ने देश में आपातकाल घोषित कर दिया।

 

देश में आपातकाल घोषित होने के बाद से ही पश्चिमी देशों का गुट तेज़ी से नसबंदी कार्यक्रम की आलोचना करने लग गया। जिसके बाद इंदिरा गांधी ने भारत में जनसंख्या वृद्धि को रोकने के लिए गर्भनिरोधक गोलियों और कंडोम के वितरण जैसे कई तरीके अपनाए।

Loading...

बता दे संजय गांधी ने फैसला किया था कि नसबंदी के कार्यक्रम की शुरुआत राजधानी दिल्ली से की जाए। वही दूसरी तरफ मुसलमानों को यह लग रहा था कि उनकी जनसंख्या कम करने की सरकार की साजिश है।

उस समय सरकार ने अपने अधिकारियों को नसबंदी करने के टारगेट दे दिए थे। जिसके बाद वो अधिकारी लोगों को घेर कर जबरदस्ती नसबंदी करने थे। नहीं उस समय लोगों को सिनेमाघरों, बसों से निकाल कर उनका ऑपरेशन किया जाने लगा था।

आपको जानकर हैरानी होगी कि , उस समय भारत के अंदर 60 लाख लोगों की नसबंदी कर दी गयी थी। जिसमें गलत ऑपरेशन से करीब दो हजार लोगों की मौत हो गयी थी। वहीं अगर इंदिरा गांधी की सरकार लोगों को छोटे परिवार के फायदे बताती या परिवार नियोजन की जानकारी देती तो उनका ये अभियान सफल हो जाता।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.