Loading...

टेस्ट में इस मामले में फिसड्डी हैं कोहली, आंकड़े बताते हैं पूरा सच

0 22

विराट कोहली टेस्ट में बेस्ट हैं ये तो आपने कई बार सुना होगा लेकिन एक आंकड़ा ऐसा भी है जिससे आप पुनः इस बारे में सोचने पे मजबूर हो जाएंगे की क्या वाकई में कोहली हैं टेस्ट में बेस्ट।

दरअसल विराट कोहली को रनों का पीछा करने में उस्‍ताद माना जाता हो लेकिन ये कामयाबी उनकी लिमिटेड ओवर फॉर्मेट में ही है। बता दें कि पर्थ टेस्‍ट की चौथी पारी में सस्‍ते में आउट होने के बाद कोहली के प्रदर्शन पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

अगर हम आंकड़ों पर एक नजर डालें तो हमे ये पता चलता है कि कप्तान विराट कोहली का हाल भी वैसा ही है जैसा महान दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर का था। तेंदुलकर भी चौथी पारी में टीम को जीत की मंज़िल तक पहुचाने पर अक्सर असफल ही रहे हैं।

बता दें कि सचिन तेंदुलकर का टेस्‍ट क्रिकेट में औसत 53.78का है लेकिन विदेशों में चौथी पारी में उनका औसत घटकर मात्र 28.92 का रह जाता है।

Loading...

मालूम हो कि सचिन की मौजूदगी में भारत केवल सात बार टेस्‍ट मैचों में विदेशों में चौथी पारी में सफलतापूर्वक लक्ष्‍य का पीछा कर पाया। इस दौरान वे एक भी शतक नहीं लगा पाए। साथ ही उनके बल्‍ले से केवल एक ही अर्धशतक निकला।

इसमें तो कोई शक नहीं कि कोहली का वनडे में प्रदर्शन शानदार है लेकिन टेस्‍ट क्रिकेट में उन्होंने निराश किया है। टेस्‍ट मैचों में कोहली की औसत लगभग 45 की है जोकि शानदार है। लेकिन वे अभी तक विदेशी धरती पर लक्ष्‍य का पीछा करते हुए टीम को जीत नहीं दिला सके हैं।

ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व कप्‍तान और दाएं हाथ के बेहतरीन बल्लेबाज माइकल क्‍लार्क ने पर्थ टेस्‍ट में कमेंट्री के दौरान इस आंकड़े की तरफ ध्‍यान खींचा।

हालांकि यहां हम आपको रिकॉर्ड के लिए बता दें कि वनडे में लक्ष्‍य का पीछा करने के दौरान तेंदुलकर ने भी बहुत प्रभावित किया हैं। मालूम हो कि विदेशी धरती पर 72 वनडे में उनके रहते 32 बार टीम जीती और उनका औसत 43.03 का है।

अब ये तो देखने वाली बात होगी की विराट कोहली क्रिकेट के इस मामले में कैसे खुद को बदलते हैं और आने वाले टेस्ट मैचों में कैसे वो चौथी पारी में खेल दिखलाते हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.