Loading...

बैंक से रोजाना गायब हो रहे थे 10 रु के 2000 सिक्के, 17 महीने में गायब हो गए 84 लाख, ऐसे खुली पोल

0 18

पश्चिम बंगाल के स्टेट बैंक से एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है। दरअसल ये मामला चोरी का है लेकिन ये कुछ अलग ही है। ऐसा कुछ आपने पहले कभी नहीं सुना होगा।

दरअसल बंगाल के वर्धमान में भारतीय स्टेट बैंक में आठ साल से काम कर रहे मैनेजर के चोरी करने का मामला सामने आया है। और ये चोरी उसने 84 लाख रुपए की कर डाली। लेकिन दिलचस्प बात यह है कि इसने इतने बड़ी रकम को सिक्कों के रूप में चुराया।

जी हां, दरअसल मैनेजर पर आरोप है कि उसने 84 लाख रुपए के सिक्कों की चोरी की। मैनेजर का नाम तारक जायसवाल बताया जा रहा है, जिसकी उम्र 35 साल है। मामले का खुलासा ऑडिट रिपोर्ट में हुआ, जिसके बाद आरोपी मैनेजर को अरेस्ट कर लिया गया है।

ऑडिट होने पर राज़ आया सामने

Loading...

दरअसल वर्धमान के इस स्टेट बैंक में तारक पिछले 17 महीने से काम कर रहा था। मैनेजर को जुए की लत थी और इसके लिए उसने बैंक से कुल 84 लाख रुपए चुराए थे, वो भी सिक्कों के तौर पर।

चोरी किए गए सभी सिक्के 10 रुपए के थे। यानी 17 महीनों में 84 लाख रुपए के हिसाब से उसने हर महीने 50 हजार सिक्के और हर दिन 2000 सिक्के चोरी किए।

29 नवंबर को जब बैंक में पड़े पैसों की गिनती शुरू हुई तो जायसवाल ने बिना छुट्टी की जानकारी दिए अचानक बैंक आना बंद कर दिया। ऑडिट में बड़ी गड़बड़ी का खुलासा हुआ।

जाहिर है कि खुलासे के बाद तारक पर सवाल खड़े हुए क्योंकि हर दिन क्रेडिड और डेबिट होने वाली रकम के हिसाब की जिम्मेदारी उसी की थी। ऐसे में जब उसकी खोजबीन शुरू हुई तो उसने खजाने की चाबी अपनी पत्नी के हाथों बैंक भिजवा दी।

इसके बाद एरिया बैंक प्रबंधक तरुण कुमार साहा ने मेमारी पुलिस थाने में एक शिकायत दर्ज करवाई, जिसके बाद पुलिस अफसर बैंक पहुंचे और तारक को बुलाने को कहा।

जल्द ही कबूल लिया अपना जुर्म

बता दें कि बैंक मैनेजर तारक जब ब्रांच पहुंचा तो पुलिस ने उससे पूछताछ शुरू करी और पुलिस की पूछताछ के कुछ घंटे में तारक टूट गया और सारी सच्चाई बयां कर दी।

इसके बाद उसी दिन तारक को अरेस्ट कर दिया गया और बीते शनिवार को उसे पांच दिनों की पुलिस रिमांड पर भेजा गया है।

मामले की जांच के दौरान ही ये भी खुलसा हुआ है कि जायसवाल ने इस पैसों का इस्तेमाल अपनी लॉटरी की लत को पूरा करने के लिए किया।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.