Loading...

काले धन पर मोदी सरकार का बड़ा कदम, दो अरबपतियों पर ईडी ने की कार्यवाही, जब्त हुई करोड़ो की सम्पत्ति

0 10

काले धन को लेकर मोदी सरकार ने काफी आलोचनाओं का सामना किया है। पिछले कुछ समय से मोदी सरकार लगातार विपक्ष के निशाने पे रही है। विपक्ष ने इस मुद्दे पर मोदी सरकार की खूब घेराबंदी की है।

हालांकि अब मोदी सरकार इस मुद्दे पर बड़ी कार्यवाई कर विरोधियों का मुंह बंद करने ने फिराक में है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसी क्रम में देश के दो बड़े कारोबारियों पर ईडी का डंडा चला।

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने देश की नामी आयुर्वेदिक कंपनी डाबर इंडिया और एम्मार एमजीएफ के निदेशकों की करोड़ों की सम्पत्ति जब्त कर ली है।

दरअसल कंपनी के दोनों निदेशकों पर विदेश में ब्लैक मनी रखने का आरोप है। बता दें कि डाबर इंडिया के डायरेक्टर प्रदीप बर्मन हैं और एमजीएफ के एडीशनल एमडी श्रवण गुप्ता हैं इन्हीं दोनों की संपत्ति जब्त की गई है।

Loading...

जप्त संपत्ति की बात करें तो ईडी ने प्रदीप बर्मन की 20.8 करोड़ रुपये और श्रवण गुप्ता की 10.28 करोड़ रुपये की संपत्ति सीज की है।

दरअसल प्रवर्तन निदेशालय की जांच में दोनों के विदेशी बैंकों में कालाधन छिपा होने की बात सामने आई है। प्रदीप के ज्यूरिख के एचएसबीसी बैंक अकाउंट में 23.10 करोड़ रुपए जमा हैं जिसकी जानकारी उन्होंने आयकर विभाग को नहीं दी थी। और यही कारण रहा कि उनकी सम्पत्ति सीज हुई है।

वहीं श्रवण गुप्ता की बात करें तो उनके भी स्विटजरलैंज के एचएसबीसी बैंक अकाउंट में 11 करोड़ रुपए जमा होने का पता चला है। और इसीलिए उनकी भी सम्पत्ति जब्त की गई है।

इस मामले में केंद्रीय जांच एजेंसी ने एक बयान जारी किया है और कहा है कि उसने विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) के तहत ये कार्रवाई की है।

यहां ये बता दें कि ये मामले 628 भारतीयों की उस सूची से जुड़े हैं, जिनका एचएसबीसी की जिनेवा शाखा में खाता है। यह सूची भारत को 2007 में फ्रांस की सरकार से प्राप्त हुई थी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.