Loading...

​​क्या आप जानते हैं कि अफगानिस्तान पहले एक हिंदू राष्ट्र था

0 43

हम अगर भारत के इतिहास की बात करें। तो भारत के इतिहास की कल्पना अफगानिस्तान और पाकिस्तान को छोड़कर नहीं कर सकते हैं। आपको पता हो तो 7 वीं सदी तक अफगानिस्तान और पाकिस्तान भारत का ही एक एक अखंड हिस्सा थे। वही शायद बहुत कम लोग जानते होंगे। कि अफगानिस्तान पहले एक हिंदू राष्ट्र था। उसके बाद अफगानिस्तान एक बौद्ध राष्ट्र बन गया। पर वही अब मौजूदा समय में अफगानिस्तान एक इस्लामिक राष्ट्र है। दिल्ली के बादशाह मोहम्मद शाह अकबर ने 26 मई सन 1739 में इरान के नादिरशाह से संधि करके अफगानिस्तान उसको उसको दे दिया था। शायद आपको यह भी नहीं पता होगा। कि 17 वी सदी तक अफगानिस्तान जैसे देश का कोई नाम भी नहीं था। अफगानिस्तान शब्द का इस्तेमाल पहली बार अहमद शाह दुर्रानी दुर्रानी के शासन में ही हुआ था।

अफगानिस्तान में हिंदू कुश नाम का एक पहाड़ी क्षेत्र भी मौजूद है। जब आप इस पहाड़ी क्षेत्र को पार करेंगे। तो आपका कजाकिस्तान,  रूस और चीन आसानी से  जा सकते हैं। करीब 700 साल पहले तक यह स्थान आर्यों का हुआ करता था। वही इतिहासकार यह बताते हैं। कि अफगानिस्तान के उत्तरी क्षेत्र में गांधार महाजनपद था। इस बात का जिक्र भारतीय महाग्रंथ महाभारत में भी है। महाभारत में भी है। कहा तो यह भी जाता है कि धृतराष्ट्र की पत्नी गांधारी इसी प्रदेश के राजा की इकलौती पुत्री थी।

आपकी जानकारी के लिए बतादें अफगानिस्तान के बल्ख प्रांत में दुनिया की कुछ बेहद महत्वपूर्ण ऐतिहासिक विरासत आज भी मौजूद हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें। कि अफगानिस्तान के कुछ प्राचीन शहरों को दुनिया भर के सभी शहरों का जनक भी कहा जाता है।

दरअसल आपको बता दें। कि उड़ने वाले विमान का जिक्र भारत की कई पौराणिक कथाओं में है। वही साल 2012 में अफगानिस्तान की एक गुफा में 5000 साल पुरानी ल, ऐसी ही एक सिलाई मशीन मिलने का दावा भी भी किया गया था। पर आपको बता दें कि इस ऐतिहासिक खोज को करने गए आठ यूएस Soldier  आज तक वापस नहीं लौटे हैं। वही अगर एक वेबसाइट “कंट्रोवर्शियल फाइल” की रिपोर्ट को देखें। तो इससे पता चलता है। कि ओबामा समेत वर्ल्ड के टॉप लीडर्स की नजर इस उड़ने वाले विमान पर हैं। की नजर इस उड़ने वाले विमान पर हैं। उड़ने वाले विमान पर हैं विमान पर हैं।

Loading...

माना तो यह भी जाता है। कि उन 8 यूएस Soldier ने ने उस ऐतिहासिक विमान को गुफा से बाहर निकालने की पूरी कोशिश की। और वह इसके टाइम वेल में फंस गए। और अचानक गायब हो गए। दरअसल टाइम वेल विमान की प्रोटेक्टेड सील है। यह एक इलेक्ट्रॉन मैग्नेटिक रेडिएशन ग्रैविटी फील्ड जैसा ही है। आपको बता दें कि पहली बार इसके बारे में साइंटिस्ट अल्बर्ट आइंस्टीन ने अपनी यूनिफाइड फील्ड थ्योरी मैं भी जिक्र किया किया जिक्र किया किया हुआ है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.