Loading...

राजस्थान के बेरोजगार युवाओं को तय है 3500 रुपए भत्ता मिलना, कांग्रेस ने BJP से छीनी राजस्थान की सत्ता

0 17

राजस्थान चुनाव के नतीजों में भारी उलटफेर देखने को मिला है। वसुंधरा राजे की बीजेपी को जनता ने दुबारा नहीं चुनने का फैसला किया है तो वहीं कांग्रेस को बहुमत मिलता दिख रहा है।

रुझानों के नतीजे अब लगभग आ चुके हैं और ये तो तय माना जा रहा है कि इस बार भाजपा नहीं बल्कि कांग्रेस की सरकार बनने वाली है।

ऐसे में राजस्थान के बेरोजगार युवाओं को 3500 रुपए भत्ता मिलना तय है। जोकि कोंग्रेस ने चुनावो से पहले एलान किया था। दिलचस्प बात ये है कि भाजपा ने अपने घोषणापत्र में बेरोजगारों को 5000 रुपए भत्ता देने का वादा किया था लेकिन इसके बावजूद भाजपा वापसी करने में नाकाम रही।

20 से 29 वर्ष के 30 फीसदी युवा हैं बेरोजगार

Loading...

राजस्थान में बेरोजगारी एक बहुत बड़ा मुद्दा है। एक खबर के मुताबिक 20 से 29 आयु वर्ग के तकरीबन 30 फीसदी युवा राजस्थान में बेरोजगार हैं।

ऐसे में सभी पार्टियों ने बेरोजगारी के मुद्दे पर उनको भुनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी थी। तभी तो दोनों प्रमुख पार्टियों के घोषणापत्र में बेरोजगारी भत्ते देने की बात कही गई थी। लेकिन ऐसा लगता है कि बेरोजगारों ने तो कम से कम ये साफ़ कर दिया है कि वो इस बार किसके समर्थन में हैं।

हालाँकि भाजपा का हारना और कोंग्रेस की वापसी के पीछे सिर्फ यही एक फैक्टर नहीं रहा है। बल्कि कई और मुद्दों पर भी राजस्थान की जनता ने वसुंदरा राजे को दुबारा नहीं चुनने का फैसला किया है।

रुझानों के नतीजे देख कर ये साफ़ हो गया है कि जनता ने कोंग्रेस के घोषणा पत्र पर ज़्यादा भरोसा दिखलाया है। वहीं बीजेपी के घोषणापत्र को दरकिनार कर दिया है।

कोंग्रेस के घोषणापत्र की प्रमुख बातें और किए गए वादे

बेरोजगार युवाओं के लिए 3500 रुपए मासिक भत्ता।

दस दिन में किसानों की कर्ज माफी और बुजुर्ग किसानों को पेंशन।

पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने का वादा।

रोजगार देने का वादा।

रोजगार के लिए कम ब्याज पर कर्ज देने का वादा।

लड़कियों को मुफ्त शिक्षा

हालांकि अब ये साफ़ हो गया है कि जनता ने राजे सरकार को सत्ता से हटाने का फैसला कर लिया है और कोंग्रेस को सत्ता देने का निर्णय भी कर लिया है लेकिन एक अंदाजा लगाने के लिए आइए एक नज़र बीजेपी के घोषणापत्र पे भी डाल लेते हैं।

भाजपा के घोषणापत्र में किए गए वादे

21 वर्ष से ज्यादा उम्र के बेरोजगारों को प्रतिमाह पांच हजार रुपए भत्ता दिया जाएगा।

सरकारी क्षेत्र में सालाना 30 हजार सरकारी नौकरियां दी जाएंगी। यानी पांच साल में 1.5 लाख सरकारी नौकरियां।

पांच वर्ष में 50 लाख प्राइवेट नौकरियां दी जाएंगी।

किसान की आय दोगुनी की जाएगी।

स्कूल पूरा होने के बाद छात्राओं के बैंक खाते में 50,000 रुपए डाले जाएंगे।

बरहाल रुझानों के नतीजों से ये तो साफ़ हो गया है कि राजस्थान की जनता ने इस बार भाजपा के विजयरथ को रोक दिया और कोंग्रेस को ताजपोशी का सुनहरा मौका दिया है। अब कोंग्रेस इस मौके का फायदा उठाकर कैसे जनता की परेशानियों को दूर करती है ये तो देखने वाली बात होगी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.