Loading...

कभी चोरी के आरोप में जाना पड़ा था 9 बार जेल, आज हर साल कमाता है 850 करोड़ रुपए

0 29

ये दुनिया का सबसे अमीर एक्टर है। इस साल इन्होंने 850 करोड़ रुपए से ज्यादा कमाई की। यह प्रोडक्शन हाउस समेत अपने कई बिजनेस वेंचर्स भी चला रहा है। लेकिन दुनिया के सबसे अमीर एक्टर को ये ऐशोआराम वाली ज़िन्दगी बेहद मुश्किलों और संघर्षों के बाद हासिल हुई है।

दुनिया का पांचवा सबसे अमीर एक्टर

हम यहां WWE स्टार और ‘द रॉक’ के नाम से चर्चित एक्टर ड्वेन डगलस जॉनसन की बात कर रहे हैं। फोर्ब्स के मुताबिक, जुलाई, 2018 में समाप्त वर्ष के दौरान उन्होंने 12.4 करोड़ डॉलर (850 करोड़ रुपए) की कमाई की। वह सबसे ज्यादा कमाई करने वाले सितारों में दुनिया में 5वें नंबर पर बने हुए हैं।

ग्लोबली 5 हज़ार करोड़ कमाए फिल्मों से

Loading...

द रॉक यानि की ड्वेन जॉनसन ने बॉडी बिल्डिंग से रेसलिंग का सफर तय किया फिर वहां पॉपुलेरिटी के सारे रिकार्ड्स तोड़ दिए और सबसे पॉपुलर रेसलर बन गए। बता दें कि उनकी फिल्मों ने 5290 करोड़ तक का ग्लोबल बिजनेस किया है।

हालांकि उनकी इस सफलता के पीछे एक लंबी संघर्षों से भरी हुई ज़िन्दगी भी है। दरअसल रॉक की ज़िंदगी में एक दौर ऐसा भी था, जब उन्हें चोरी और झपटमारी के आरोप में 9 बार जेल जाना पड़ा था। उन्होंने फुटबॉल खिलाड़ी बनने की सोची थी, लेकिन वहां भी किस्मत ने उनका साथ नहीं दिया।

अपार्टमेंट से निकाला गया परिवार

बता दें कि ड्वेन जॉनसन के पिता भी पेशे से रेसलर थे। उनकी नानी रेसलिंग की गिनी-चुनी फीमेल प्रमोटर्स में एक थीं। बाद में उनका परिवार होनोलुलु में शिफ्ट हो गया। लेकिन, वहां एक समय ऐसा भी आया कि परिवार के पास पैसों की इतनी तंगी हो गई कि उन्हें अपार्टमेंट से निकाल दिया गया।

9 बार जाना पड़ा जेल

पिता के पास काम नहीं था। तब ड्वेन 14 साल के थे। परिवार को ऐसे हालत में नहीं देखा गया तो उन्होंने कमाई के लिए एक अलग लेकिन गलत राह चुन ली।

14 साल की उम्र में ड्वेन ने ऐसे ग्रुप का साथ कर लिया जो सड़कों पर झपटमारी का काम किया करते थे। खुद ड्वेन का कहना था कि होनोलुलु में टूरिस्ट बहुत ज्यादा आते हैं, इस वजह से वे सड़क पर आसान शिकार थे।

बता दें कि चोरी-झपटमारी के चलते ड्वेन जॉनसन को 9 बार जेल जाना पड़ा। घर वालों का दबाव पड़ा तो उन्होंने यह रास्ता छोड़ दिया।

चोरी छोड़ने के बाद क्या किया

ड्वेन जॉनसन को शुरू से ही पिता को देखकर बॉडी बिल्डिंग में नाम कमाने का शौक‍ था। इसी दम पर उन्होंने दमखम वाले खेल रग्बी खेलना शुरू कर दिया। वह यूनिवर्सिटी ऑफ मियामी की नेशनल चैंपियन टीम के हिस्सा रहे।

केनेडा के लिए उन्होंने फुटबॉल भी खेंली थी। लेकिन एक इंजरी की वजह से उन्हें टीम से 2 महीने के लिए बाहर कर दिया गया। जब वह फुटबॉल टीम छोड़कर लौटे तो उनके पास सिर्फ 7 डॉलर बचे थे। यही वजह रही कि आगे चलकर उन्होंने अपने प्रोडक्शन हाउस का नाम 7 बक रखा।

पिता की राह पर चलकर बदली किस्मत

बताया जाता है कि फुटबॉल टीम से निकाले जाने के बाद ड्वेन भयानक डिप्रेसन में आ गए। लेकिन फिर किसी ने सलाह दी कि उनको अपने पिता की राह पर चलना चाहिए। फिर उन्होंने सोच ली कि वह भी पिता की तर्ज पर चलेंगे और रेसलर बनेंगे।

किस्मत ने साथ दिया और ड्वेन को 1996 में तब वर्ल्ड रेसलिंग फेडरेशन में एंट्री मिल गई, जिसे आज वर्ल्ड रेसलिंग इंटरटेनमेंट के नाम से जानते हैं।

रिंग में वह द रॉक के नाम से पॉपुलर हुए और लोग उन्हें पिपुल्स चैंप के नाम से बुलाने लगे। वह रिंग में 1996 से 2004 तक और 2011 से 2014 तक एक्टिव रहे। वह 16 बार चैंपियनशिप जीतने में कामयाब रहे।

फिल्म ने किया 5290 करोड़ का ग्लोबल बिजनेस

रेसलिंग के रिंग में पॉपुलर होने पर बॉलीवुड से ब्रेक मिला। द ममी रिटर्न और द स्कॉर्पियन किंग जैसी फिल्मों से बतौर एक्टर शुरुआत की।

द स्कॉर्पियन किंग के लिए उन्हें 37 करोड़ रुपए मिले थे। लेकिन, फास्ट एंड फ्यूरियस-6 ने उन्हें सुपरस्टार बना दिया। फिल्म ने 5290 करोड़ का ग्लोबल कारोबार किया।

एक सफल बिजनेसमैन भी

ड्वेन जॉनसन का 7 बक नाम से अपना प्रोडक्शन हाउस हैं, जिसके जरिए टीवी प्रोग्राम और फिल्मों का प्रोडक्शन किया जाता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.