Loading...

अगर घूमने फिरने का शौक है तो सरकार दे रही है ऑनलाइन ट्रैवलर एग्रीगेटर बनने का शानदार मौका

0 17

अगर आपका घूमने फिरने का शौक है। आपको अलग अलग अलग जगह एक्सप्लोर करना अच्छा लगता है और आपको कई जगह के बारे में ज्ञान भी है तो भारत सरकार से जुड़कर आप अपनी मनपसंद जॉब कर सकते हैं।

जी हां, आप आप भारत सरकार के टूरिज़्म मंत्रालय से जुड़कर ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर (ओटीए) बन सकते हैं। यानी कि जो आपका शौक है वही आपका प्रोफेशन बन जाएगा जो और यह मौका खुद आपको भारत सरकार का टूरिज्म मंत्रालय दे रहा है।

दरअसल ये मंत्रालय दिसंबर के अंत तक ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर के लिए नए दिशा-निर्देश तैयार कर रहा है जिसे दिसंबर आखिर तक लागू किया जा सकता है।

अगर आपको लगता है कि आप यह काम कर सकते हैं ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर बनने के लिए आप टूरिज्म मंत्रालय से संपर्क कर सकते हैं या उनकी साइट पर जाकर संपूर्ण जानकारी हासिल कर सकते हैं।

Loading...

बता दें कि ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर बनने के लिए सबसे पहले तो आप को ऑनलाइन आवेदन करना होगा और उसके बाद मंत्रालय की तरफ से निर्धारित फीस देनी होगी।

दरअसल सरकार का मानना है कि अभी जो ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर वो इतनी प्रभावशाली नहीं है। और सभी अलग अलग प्लेटफॉर्म पर हैं।

ऐसे में सरकार का प्लान सभो को एक प्लेटफ़ॉर्म पर लाने का है। सरकार इस संबन्ध में कई नियम एवं कायदे कानून लाने वाली है इसलिए सरकार ने ये साफ़ कर दिया है कि ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर वही बनेगा जो इन नियमो का पालन करेगा।

कौन हैं ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर

ओटीए यानि ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर दरअसल ट्रैवल प्रोडक्ट्स को बेचने वाला एजेंट होता है। जो कि एयरलाइंस, कार रेंटल क्रूज लाइंस, होटल्स, रेलवे व अन्य वैकेशन पैकेज को सप्लाई करने वाले के नाम पर काम करता है।

मतलब असली सप्लायर कोई और होता है और ओटीए उनके एजेंट होते हैं जो उनकी तरफ से उनका काम करते हैं। ओटीए को इन सप्लायर्स की तरफ से कमीशन दी जाती है और यही इनकी कमाई होती है।

मंत्रालय के मुताबिक अभी ज़्यादातर ओटीए अन ऑथोराइज़्ड हैं यानी की इनको मान्यता प्राप्त नहीं है।

इसी वजह से इनके काम के कारण कई बार पूरे टूरिज्म बाजार पर फर्क पड़ता है। इसलिए ओटीए को मान्यता देना अब ज़रूरी होगया है।

ऑनलाइन ट्रैवल एग्रीगेटर के प्रमुख काम

ओटीए के निम्नलिखित प्रमुख कार्य होते हैं।

1. यात्रा से संबंधित सेवा प्रदाताओं / एजेंटों या अन्य सेवा प्रदाताओं जैसे होटलों, होमस्टे की एक लिस्ट बनाना।

2. ब्रांड के तहत संभावित यात्रा, आतिथ्य और संबंधित सेवा प्रदाताओं / विक्रेताओं के साथ खरीदारों को जोड़ना।

3. सुविधाओं / गुणवत्ता मानकों को निर्धारित करना और संभावित ग्राहकों की आवश्यकताओं से मेल खाने के लिए सेवा प्रदाताओं को प्रभावित करना।

4. आवश्यक बेंचमार्क, मानकों, कमीशन दरों और अन्य सेवाओं को निर्धारित करने वाले सेवा प्रदाताओं के साथ अनुबंधों में प्रवेश करना।

ओटीए के लिए दिशा निर्देश

किसी भी ओटीए के लिए कार्यालय परिसर में मंत्रालय द्वारा दिए गए अनुमोदन प्रमाण पत्र को फोटो फ्रेम में प्रदर्शित करके अनिवार्य रूप से प्रदर्शित करना अनिवार्य होगा।

ताकि यह एक संभावित पर्यटक के लिए दृश्यमान हो और होम पेज पर एक प्रमुख लिंक के तहत भी दिखाई दे।

किसी भी ओटीए के अपरुअल के लिए पर्यटन मंत्रालय का फैसला अंतिम होगा। हालांकि, मंत्रालय अपने विवेकाधिकार पर किसी भी फर्म को फिर से स्वीकृति देने या किसी भी समय स्वीकृति / पुन: अनुमोदन पर रोक लगाने से इनकार कर सकता है।

इस तरह के निर्णय लेने से पहले, आवश्यक कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.