Loading...

कंगारू क्रिकेट बोर्ड ने फिर फैलाई भारतीय क्रिकेट बोर्ड के सामने झोली, बोले ये मुराद कर दो पूरी

0 20

बीसीसीआई यानि भारतीय क्रिकेट बोर्ड विश्व का सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड है। इसका रुतबा आईसीसी पर भी काफी चलता है। कुछ क्रिकेट बोर्ड तो भारत के बोर्ड से जलते भी हैं। वहीं कुछ बोर्ड ये बात भली भांति से जानते हैं कि अगर उनकी टीम का मैच भारत की टीम से होगा तो इससे उन्हीं को फायदा होगा। ऐसे में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड ने भी भारतीय क्रिकेट बोर्ड से एक गुज़ारिश की है।

दरअसल भारत के खिलाफ सीरीज के पहले क्रिकेट टेस्ट में दर्शकों की कमी को देखते हुए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने बीसीसीआई से दिन-रात्रि टेस्ट के विरोध पर पुनर्विचार करने को कहा है।

उन्होंने कहा कि उन्हें अगले दौरे पर एडीलेड में दूधिया रोशनी में मैच खेलना चाहिए। इस पर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के अधिकारियों ने कहा कि टेस्ट के पहले दिन मैदान में 23,802 दर्शक पहुंचे जो 2013 में इस मैदान के पुननिर्माण के बाद सबसे कम है। यह चिंता का विषय है।

Loading...

इस संबन्ध में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के एक अधिकारी ने कहा कि “लोग अब टेस्ट क्रिकेट में बदलाव देखने के इच्छुक हैं। वो चाहते हैं कि टेस्ट क्रिकेट भी नाईट में हो और उनको भी बदलाव देखना है।”

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा कि पिछले कुछ मैचों में उन्होंने नाईट टेस्ट खेला था जिससे काफी लोग प्रभावित हुए थे। अगर आंकड़ो पर नज़र डालें तो इस मैदान में एशेज के पहले मैच के लिए 55,000, उससे पहले दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच के लिए 32,255 और न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट के पहले दिन मैदान में 47,441 दर्शक मौजूद थे।

गुरुवार को दर्शकों की यह संख्या चार साल पहले भारत के खिलाफ यहां खेले गए मैच के पहले दिन से भी कम थी। उस मैच में 25,619 दर्शक मैदान में मौजूद थे।

उन्होंने कहा की ” हम एडीलेड में फिर से दिन-रात्रि टेस्ट मैच की तरफ लौटना चाहेंगे। दर्शकों को भी ये टेस्ट में प्रयोग काफी पसंद आता है और इसीलिए हम चाहते हैं।” उन्होंने कहा की उन्हें उम्मीद है कि बीसीसीआई 2020-21 में ऑस्ट्रेलिया के अगले दौरे पर दिन रात्रि टेस्ट खेलने के लिए तैयार होगा।

उन्होंने आगे कहा की, ” हम ऐसी ही उम्मीद कर रहे हैं। हम एक बार में एक कदम लेंगे। हम यह मानते हैं कि टेस्ट को लेकर उनका नजरिया अलग है। उम्मीद है कि प्रशंसको की भावनाओं को ध्यान में रखकर हम दिन-रात्रि टेस्ट में खेल सकते है। अगर हम ऐसा करने में कामयाब हो जाते हैं तो सबसे ज़्यादा फायदा इससे क्रिकेट के प्रशंसकों का ही होगा।”

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.