Loading...

कोहली नहीं बल्कि इनकी वज़ह से भारत जीत सकती है ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज, रच सकती है इतिहास

0 11

6 दिसंबर से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टीम इंडिया अपना टेस्ट सीरीज का आगाज करने जा रही है। पहला टेस्ट एडिलेड में खेला जाएगा। किसी भी सीरीज में पहला टेस्ट काफी महत्वपूर्ण होता है खास तौर पर अपने विरोधी पर प्रेशर बनाने के लिए। अगर आप पहले टेस्ट में जीत हासिल करते हैं तो विरोधी दूसरे टेस्ट में जब खेलने आते हैं तो पहले से ही प्रेशर में रहते हैं।

ऐसे में विराट कोहली को ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने के लिए आखिर क्या करना होगा? कौन सी ऐसी रणनीति अपनानी होगी जिसके कारण विराट कोहली ऑस्ट्रेलिया में शुरू होने जा रही टेस्ट सीरीज को अपने नाम कर सकते हैं और इतिहास रच सकते हैं।

कमी विराट कोहली की बल्लेबाजी में तो बिल्कुल भी नहीं है क्योंकि विराट कोहली हर सीरीज में अच्छा प्रदर्शन करते हैं फिर चाहे वह साउथ अफ्रीका का टूर हो या फिर इंग्लैंड का टूर। विराट कोहली ने सभी जगह बेहतरीन प्रदर्शन भी दिखाया है लेकिन फिर भी टीम इंडिया को सीरीज नहीं जिता पाए। ऐसा इसलिए भी है है क्योंकि टेस्ट मैच जीतने के लिए जितनी बल्लेबाजी जरूरी है, उतनी ही ज्यादा जरूरी गेंदबाज़ी भी है।

वैसे इस बार भारत की गेंदबाजी काफी मजबूत और सटीक लग रही है ऐसे में टीम इंडिया को क्या करना होगा आइए जानने की कोशिश करते हैं।

Loading...

भारत के पूर्व ओपनर और दिग्गज खिलाड़ी के श्रीकांत की माने तो “ऑस्ट्रेलिया में अब तक हमने जितने भी टूर किए हैं उसमें हम पूरी तरीके से अपनी बल्लेबाजी पर निर्भर रहें हैं। हमने बल्लेबाजों से ही उम्मीद करी है कि वह हमें टेस्ट मैच जिताएंगे साथ ही सीरीज भी लेकिन अब ऐसा नहीं है।

अब हम अपने गेंदबाजों पर भी उतना ही भरोसा कर सकते हैं जितना कि हम कभी अपने बल्लेबाजों पर किया करते थे। अब हमारे पास टॉप क्लास के गेंदबाज है जो ऑस्ट्रेलिया जैसी कंडीशन में तो खासतौर पर अच्छा प्रदर्शन करके विरोधी की नाक में चने चबवा सकते हैं इसलिए भारत को अगर ऑस्ट्रेलिया में इस बार की सीरीज जीतनी है तो हर हाल में गेंदबाजों को बेहतर प्रदर्शन करना पड़ेगा।”

वहीं वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान कार्ल हूपर ने भी अपने विचार रखें उन्होंने कहा की, “इंग्लैंड टूर पर भारतीय बल्लेबाजों ने काफी निराशाजनक प्रदर्शन किया था। जबकि गेंदबाजों ने काफी प्रभावित किया था। बल्लेबाजों को चाहिए कि वह कम से कम इतना तो स्कोर बनाएं जितने में गेंदबाजों को भी थोड़ा आत्मविश्वास आए।

इसलिए भारतीय बल्लेबाजों को ज्यादा नहीं बस 400 से 500 रन बनाने होंगे। अगर उन्होंने इतने रन बना लिए तो इस वक्त भारत की गेंदबाजी ऐसी है जो इतने रन में भी टीम इंडिया को जीत की दहलीज तक ला सकती है।”

वैसे जानकारी के लिए बता दें कि भारत ने ऑस्ट्रेलिया में कभी भी टेस्ट सीरीज नहीं जीती है। कुल आंकड़ों की बात करें तो भारत ने ऑस्ट्रेलिया की धरती पर 44 टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें की भारत को 28 मैचों में हार का सामना करना पड़ा है। जबकि भारत ने सिर्फ पांच टेस्ट मैच जीते हैं वहीं अगर ड्रॉ की बात करें तो टीम इंडिया सिर्फ 7 टेस्ट ही ड्रॉ करा पाई है।

जहां तक पिछली बार जीत की बात है तो टीम इंडिया के पिछले दो दौरे काफी खराब गए हैं. साल 2011-12 में जब टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया का टूर किया था तब उनको 4-0 से हार का सामना करना पड़ा था।

वहीं साल 2014-15 में जब भारत ऑस्ट्रेलिया में थी थी में थी तब उन्होंने दो मैच हारे थे जबकि दो मुकाबले ड्रा रहे थे ऐसे में जीत उनको नहीं मिल पाई थी।

इसलिए फैंस को इस टीम से बहुत उम्मीदें हैं कि वह ना सिर्फ इस दौरे पर जीत हासिल करेंगे बल्कि इतिहास में पहली बार ऑस्ट्रेलिया को ऑस्ट्रेलिया की धरती पर ही टेस्ट सीरीज भी भी हराएंगे।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.