Loading...

देश में मौजूद है एक ऐसी जगह जहां मर्द बनते हैं घरजमाई, महिलाएं करती है कई शादियां और साथ ही

0 53

अब तक आपने यही सुना होगा कि जब लड़कियों की शादी हो जाती है तो वह अपना घर छोड़कर लड़के घर में रहने चली जाती है लेकिन क्या आपने कभी सुना है की लड़कियों की शादी के बाद लड़की अपना घर छोड़कर लड़की के घर में रहने आ जाए? नहीं ना लेकिन यह बिल्कुल सत्य है और यह और कहीं नहीं भारत में ही होता है।

खासी एक जनजाति है जो भारत के मेघालय, असम तथा बांग्लादेश के कुछ क्षेत्रों में निवास करते हैं। इस जाती की खास बात यह है कि, इस जनजाति में लड़कियों को ऊंचा दर्जा दिया जाता है। यहां लड़कियों के जन्म पर जश्न मनाया जाता है।

यहां लड़कियां अपने मां बाप के साथ ही रहती हैं और उन्हें शादी के बाद लड़कियों के पति घर में घरजमाई बनकर रह सकते हैं। लड़कियां ही घर की वारिस होती हैं और सारी धन दौलत उन्हीं के पास रह जाती है।

इतना ही नहीं इस जनजाति की महिलाएं कई पुरुषों से शादी कर सकती हैं। लेकिन यहां के पुरुषों की मानें तो उनका कहना है कि, उन्हें अब इस प्रथा में कुछ बदलाव चाहिए। उनका कहना है कि, वे यह मांग कर के महिलाओं को नीचे नहीं दिखाना चाहते लेकिन उन्हें भी अब बराबरी का हक़ चाहिए।

Loading...

इस जनजाति में विवाह के लिए कोई विशेष रस्म नहीं है। लड़की और माता पिता की सहमति होने पर युवक ससुराल में आना जाना शुरू कर देता है और संतान होते ही वह स्थायी रूप से वही रहने लगता है।

बता दें कि, इस जनजाति में परिवार के तमाम फैसले भी महिलाओं द्वारा लिए जाते हैं। इस जनजाति की एक और खास प्रथा है जिसमें सारी संपत्ति घर की बड़ी बेटी नहीं बल्कि छोटी बेटी को ही मिलती है। इसके पीछे का कारण यह है कि उसे ही आगे चलकर अपने माता-पिता की देखभाल करनी होती है। छोटी बेटी को खातडुह कहा जाता है।

संबंधविच्छेद भी अक्सर सरलतापूर्वक होते रहते हैं। संतान पर पिता का कोई अधिकार नहीं होता। करीब 10 लाख लोगों का वंश महिलाओं के आधार पर चलता है। यहां तक कि किसी परिवार में कोई बेटी नहीं है, तो उसे एक बच्ची को गोद लेना पड़ता है, ताकि वह वारिस बन सके।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.