Loading...

आसान शर्तों पर मिल जाएगी पोस्ट ऑफिस की फ्रेंचाइजी, हर महीने होगी जबरदस्त कमाई, जानें कैसे

0 13

पोस्‍टल डिपार्टमेंट ‘इंडिया पोस्‍ट’ ने पोस्ट ऑफिस खोलने के लिए एक ऑफर प्रदान किया है। यह एक बहुत अच्छा व्यवसाय भी हो सकता है, फ्रेंचाइजी लेकर आप अच्छी खासी खासी कमाई कर सकते हैं।

बता दें कि इसके लिए आपको बहुत ज्यादा पढ़ा लिखा होने होने की भी आवश्यकता नहीं है। दरअसल पोस्ट ऑफिस फ्रेंचाइजी लेने के लिए इंडिया पोस्ट ने ये साफ किया है कि अगर आप आठवीं पास भी हैं तो भी आप फ्रेंचाइजी लेने के काबिल हैं।

जहां तक पोस्ट ऑफिस से कमाई की बात है तो आप फ्रेंचाइजी के जरिए स्‍टांप, स्‍टेशनरी, स्‍पीड पोस्‍ट आर्टिकल्‍स, मनी ऑर्डर, सेविंग्स सर्टिफिकेट आदि बेचकर कमीशन ले सकते हैं, जो आपकी रेगुलर इनकम का जरिया बन सकती है।

कौन ले सकता है फ्रेंचाइजी

Loading...

इंडिया पोस्ट ने यह साफ किया है कि ये वर्ग के लोग या निम्नलिखित लोग पोस्ट ऑफिस की फ्रेंचाइजी ले सकते हैं:

कोई भी व्यक्ति, इंस्‍टीट्यूशंस, ऑर्गेनाइजेशंस या अन्‍य एंटिटीज जैसे कॉर्नर शॉप, पान वाले, किराने वाले, स्‍टेशनरी शॉप, स्‍मॉल शॉपकीपर आदि पोस्‍ट ऑफिस फ्रेंचाइजी ले सकते हैं।

इसके अलावा नई शुरू होने वाली शहरी टाउनशिप, स्‍पेशल इकोनॉमिक जोन, नए शुरू होने वाले इंडस्ट्रियल सेंटर, कॉलेज, पॉलिटेक्निक्‍स, यूनिवर्सिटीज, प्रोफेशनल कॉलेज आदि भी फ्रेंचाइजी का काम ले सकते हैं।

फ्रेंचाइजी लेने के लिए फॉर्म सबमिट करना होता है। सिलेक्‍ट हुए लोगों को डिपार्टमेंट के साथ MOU साइन करना होगा।

व्यक्ति की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए।

उसे कम से कम 8वीं पास होना चाहिए।

फॉर्म व अधिक जानकारी https://www.indiapost.gov.in/VAS/DOP_PDFFiles/Franchise.pdf से ली जा सकती है।

कौन नहीं ले सकता फ्रैंचाइजी

पोस्‍ट ऑफिस इंप्‍लॉइज के परिवार के सदस्‍य उसी डिवीजन में फ्रेंचाइजी नहीं ले सकते, जहां वह इंप्‍लॉई काम कर रहे हैं। हालांकि परिवार के सदस्‍यों में इंप्‍लॉई की पत्‍नी, सगे व सौतेले बच्‍चे और ऐसे लोग जो पोस्‍टल इंप्‍लॉई पर निर्भर हों या उनके साथ ही रहते हों, फ्रैंचाइजी ले सकते हैं।

कितना देना होगा सिक्योरिटी डिपॉज़िट

सिक्योरिटी डिपॉजिट की जहां तक बात है तो पोस्‍ट ऑफिस फ्रेंचाइजी लेने के लिए मिनिमम सिक्‍योरिटी डिपॉजिट 5000 रुपए है। सिक्‍योरिटी डिपॉजिट NSC की फॉर्म में लिया जाता है।

कैसे होगी कमाई

फ्रेंचाइजी की कमाई उनके द्वारा दी जाने वाली पोस्‍टल सर्विसेज पर मिलने वाले कमीशन द्वारा होती है। यह कमीशन MOU में तय होता है। यानी कि अगर आप ज्यादा से ज्यादा सर्विस से दे सकते हैं तो कमीशन ज्यादा मिलने की उतनी ही संभावनाएं हैं और कमाई हो ज्यादा होने की भी संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

किस सर्विस या प्रोडक्ट पर कितना होगा कमिशन

अलग अलग सर्विस एवं अलग-अलग प्रोडक्ट्स पर कमीशन होता है। आइए जानते हैं किस प्रोडक्ट पर या सर्विस पर कितना कमीशन है।

रजिस्‍टर्ड आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 3 रुपए

स्पीड पोस्‍ट आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 5 रुपए

100 से 200 रुपए के मनी ऑर्डर की बुकिंग पर 3.50 रुपए, 200 रुपए से ज्‍यादा के मनी ऑर्डर पर 5 रुपए

हर माह रजिस्‍ट्री और स्‍पीड पोस्‍ट के 1000 से ज्‍यादा आर्टिकल्‍स की बुकिंग पर 20 फीसदी अतिरिक्‍त कमीशन

पोस्‍टेज स्‍टांप, पोस्‍टल स्‍टेशनरी और मनी ऑर्डर फॉर्म की बिक्री पर सेल अमाउंट का 5 फीसदी

रेवेन्‍यू स्‍टांप, सेंट्रल रिक्रूटमेंट फी स्‍टांप्‍स आदि की बिक्री समेत रिटेल सर्विसेज पर पोस्‍टल डिपार्टमेंट को हुई कमाई का 40%

कैसे होता है सिलेक्‍शन

फ्रेंचाइजी लेने वाले का सिलेक्‍शन सबंधित डिविजनल हेड द्वारा किया जाता है, जो एप्‍लीकेशन मिलने के 14 दिनों के अंदर ASP /sDl की रिपोर्ट पर आधारित होता है।

यहां पर यह जान लेना जरूरी है कि फ्रेंचाइजी खोलने की अनुमति ऐसी ग्राम पंचायतों में नहीं मिलती है, जहां पंचायत संचार सेवा योजना स्‍कीम के तहत पंचायत संचार सेवा केन्‍द्र मौजूद हैं।

ट्रेनिंग का है पूरा प्रावधान

जिनका सेलेक्शन फ्रेंचाइजी के लिए हो जाएगा, उन्‍हें पोस्टल डिपार्टमेंट की तरफ से ट्रेनिंग भी मिलेगी। ट्रेनिंग इलाके के सब-डिविजनल इंसपेक्टर द्वारा दी जाएगी।

इसके अलावा जो फ्रेंचाइजी प्‍वॉइंट ऑफ सेल्स सॉफ्टवेयर का यूज करेंगे, उन्हें बार कोड स्टिकर भी मिलेगा।

अच्‍छा परफॉर्म करने वाली फ्रेंचाइजी आउटलेट को अवॉर्ड भी दिया जाएगा। सालाना अवॉर्ड के लिए संबंधित सर्किल हेड प्रावधान बनाएंगे।

फ्रेंचाइजी जारी रखने के लिए क्या है नियम

फ्रेंचाइजी के लिए हर माह 50,000 रुपए का मिनिमम रेवेन्‍यू जनरेशन अनिवार्य है, साथ ही इसका निकट के अन्‍य पोस्‍ट ऑफिस पर निगेटिव इंपैक्‍ट नहीं पड़ना चाहिए।

फ्रेंचाइजी को आगे भी जारी रखने का फैसला रिव्‍यू के आधार पर होता है। डिपार्टमेंट द्वारा पहला रिव्‍यू फ्रेंचाइजी खुलने के 6 महीने बाद किया जाता है और इसके आगे जारी रहने का फैसला अगले 6 महीनों बाद यानी पूरे एक साल बाद होता है। इसके अलावा हर माह भी फ्रेंचाइजी का जायजा लिया जाता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.