Loading...

इस रिपोर्ट के मुताबिक इनकम टैक्स विभाग ने 8 महीने तक नीरव मोदी के घोटाले की खबर को दबाए रखा

0 23

अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस ने एक सनसनीखेज खुलासा किया है. इस खुलासे के मुताबिक इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को नीरव मोदी द्वारा किए गए पीएनबी घोटाले की पहले से जानकारी थी।

अखबार के मुताबिक आयकर विभाग की जांच रिपोर्ट में ये बात सामने आई है। अखबार के अनुसार इनकम टैक्स विभाग की एक जाँच रिपोर्ट में ये साफ़ साफ़ कहा गया है कि घोटाले का राज़ खुलने से से 8 महीने पहले ही नीरव मोदी के इन कारनामों की उन्हें भनक लग गई थी, लेकिन विभाग ने दूसरी जांच एजेंसियों से यह जानकारी शेयर नहीं की.

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने नीरव मोदी को लेकर दस हज़ार पन्नों की रिपोर्ट 8 जून 2017 को तैयार की थी, लेकिन इसकी जानकारी सीबीआई, सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन ऑफिस (SFIO), प्रवर्तन निदेशालय (ED), डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (DRI) को नहीं दी गई. ऐसे में 8 महीने बाद यानी फरवरी 2018 में पीएनबी घोटाले का खुलासा हो सका.

इस डिपार्टमेंट के एक सीनियर अधिकारी की मानें तो ये जानकारियां दूसरी जांच एजेंसियों के साथ इसलिए शेयर नहीं की गई, क्योंकि ऐसा कोई प्रोटोकोल नहीं है.

Loading...

अधिकारी ने आगे कहा कि, ‘नीरव मोदी और मोहुल चौकसी के घोटाले सामने आने के बाद इस साल जुलाई-अगस्त से डिपार्टमेंट को सारी जानकारी फाइनेंशियल इंटेलिजेंस यूनिट (FIU) से साझा करने को कहा गया. FIU बाद में सारी जानकारियां दूसरी एजेंसी को भी देती है.’

बता दें कि पीएनबी घोटाले की मुख्य आरोपी है नीरव मोदी। मुंबई की पीएनबी बैंक की ब्रांच के अधिकारियों के साथ मिलकर नीरव मोदी ने इस घोटाले को अंजाम दिया था। नीरव ने अपने मामा मेहुल चौकसी के जरिए घोटाले की रकम को विदेशी अकाउंट में ट्रांसफर किया था। यानि की विदेशों में भेज दिया था यहां का पैसा और इसीलिए सरकार इन दोनों लोगों को ढूंढ रही है। बता दें कि मेहुल चौकसी इन दिनों एंटिगा में है तो वहीं नीरव मोदी ब्रिटेन में।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.