Loading...

सचिन ने दिया ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट जीतने का गुरु मंत्र, बोले- ये कर लिया तो मैच होगा आपकी मुट्ठी में

0 6

अपने पहले ही टेस्ट में शतक लगाने वाले युवा भारतीय ओपनर पृथ्वी शॉ के चोटिल होने से कप्तान विराट कोहली की चिंताएं बढ़ गईं हैं। अब कप्तान को एक दूसरे ओपनर की तलाश है। कुछ लोगों का मानना है केएल राहुल की जगह रोहित शर्मा को टेस्ट में भी ओपन करना चाहिए। अब चूंकि पृथ्वी शॉ चोटिल हो चुके हैं तो विराट कोहली यह दांव खेल सकते हैं।

लेकिन विराट कोहली की चिंता को ध्यान में रखते हुए अब क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले भारत के महानतम बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने कोहली को कुछ गुरुमंत्र दिए हैं। आइए जानते हैं इसके बारे में:

एक इंटरव्यू में सचिन तेंदुलकर ने कहा कि “टेस्ट क्रिकेट में में ओपनर्स की काफी अहम जिम्मेदारी होती है। अगर ओपनर अच्छी शुरुआत देने में सफल होते हैं तो टीम भी अच्छा और विशाल स्कोर खड़ा करने में सक्षम हो पाती है।”

Loading...

मास्टर ब्लास्टर ने आगे कहा कि, “जब कभी ओपनर्स अच्छा नहीं कर पाते तो यह जिम्मेदारी नंबर 3 एवं नंबर 4 के बल्लेबाजों के बल्लेबाजों पर आ जाती है जाती है और फिर उनको ही टीम की नैया नैया पार लगानी होती है।”

सचिन तेंदुलकर ने कहा कि ” मैंने इंग्लैंड दौरे में भी यह बोला बोला था कि शुरुआत में 40 ओवर काफी अहम साबित हो सकते हैं और जो कि कि हुए भी। इसी प्रकार ऑस्ट्रेलिया में भी शुरुआत के 40 ओवर काफी ओवर काफी काफी अहम साबित होंगे क्योंकि गेंद शुरुआत के 40 ओवर में जो हरकते करती है उसके बाद नहीं करती।

यानी की शुरुआत के 40 ओवर तक बल्लेबाजों बल्लेबाजों तक बल्लेबाजों शुरुआत के 40 ओवर तक बल्लेबाजों बल्लेबाजों तक बल्लेबाजों बल्लेबाजों को बहुत संयम के साथ खेलना पड़ता है और गेंदबाजों के पास भी इन्हीं ओवरों में बल्लेबाजों पर पर दबाव बनाने का मौका होता है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि एक बार अगर अगर बल्लेबाज सेट हो गए तो फिर उनको आउट करना काफी मुश्किल मुश्किल हो जाता है।”

तेंदुलकर के कहा कि, “ऑस्ट्रेलिया में भी शुरुआत के 35 से 40 ओवेरो में गेंद नई होती है और सीम सामने रहती है। इसीलिए ये समय बल्लेबाजो के लिए काफी अहम साबित होगा। उसके बाद फिर सीम थोड़ी नरम पड़ती है और तेज गेंदबाजों को पिच से कम मदद मिलती है। इसलिए शुरुआती 35 ओवर अहम है, लेकिन शर्त यह है कि पिच हरी न बनाई जाए, नहीं तो गेंदबाजों का ही मैच बन जाता है।”

आप पहले टेस्ट में क्या होता है यह तो देखने वाली देखने वाली बात होगी क्योंकि एडिलेड में शुरू होने वाले पहले शुरू होने वाले पहले में शुरू होने वाले पहले पहले टेस्ट में भारत के लिए सबसे बड़ी समस्या ओपनर्स की होगी।

अब इस टेस्ट में में टेस्ट में में मुरली विजय के संग कौन ओपन करने आता है यह तो जाहिर सी बात है उसी दिन पता चलेगा।

कुछ लोगों का मानना है कि पृथ्वी शॉ शॉ के चोटिल होने के बाद हमेशा की तरह मुरली विजय के संग केएल राहुल को आना चाहिए जबकि कुछ का मानना है कि रोहित शर्मा लिमिटेड ओवर्स में बतौर ओपनर काफी अच्छे साबित हुए हैं ऐसे में उन्हीं को को को मौका मिलना चाहिए।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.