Loading...

Whatsapp भारत में लाने जा रही है ये सेवा, रिज़र्व बैंक से मांगी अनुमति, लिखा पत्र

0 43

व्हाट्सएप प्रमुख ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को एक पत्र लिखा है, इस पत्र में उन्होंने भुगतान सेवा को शुरू करने की अनुमति मांगी है। उन्होंने इस पत्र में लिखा है कि भारत में लगभग 20 करोड़ व्हाट्सएप के उपभोक्ता है इसलिए उनकी नई सर्विस यानि कि भुगतान की सेवा को प्रारंभ करने के लिए रिजर्व बैंक उन्हें अनुमति देने का कष्ट प्रदान करें।

बता दें कि यह मैसेजिंग एप तकरीबन 2 साल से सरकार के संपर्क में और अपनी अपनी इस सेवा के बारे में चर्चा करती रही है। व्हाट्सएप चाहती है कि जल्द से जल्द सरकार उन्हें भुगतान सेवा प्रारंभ करने की अनुमति दे।

बता दें कि व्हाट्सएप के लिए चिंता का विषय यह भी है कि उनकी प्रतिद्वंदी माने प्रतिद्वंदी माने जाने वाली गूगल कंपनी ने भुगतान की सेवा की शुरुआत कर दी है इसलिए व्हाट्सएप भी व्हाट्सएप भी इसलिए व्हाट्सएप भी यह चाहती है की सरकार उन्हें जल्द से जल्द भुगतान सेवा प्रदान करने की अनुमति प्रदान करें।

इसी संबंध में कंपनी के प्रमुख क्रिस डेनियल ने अब आरबीआई को पत्र लिखकर देश में सभी उपभोक्ताओं को भुगतान सेवा की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए औपचारिक अनुमति देने का आग्रह किया है।

Loading...

डेनियल ने आरबीआई गवर्नर को जो पत्र लिखा है उसमें उन्होंने कहा है, “मैं आपसे वाट्सएप की भीम यूपीआई (यूनिफायड पेमेंट इंटरफेस) पर चलने वाले भुगतान उत्पाद को सभी भारतीय उपभोक्ताओं के लिए तत्काल शुरू करने को लेकर औपचारिक अनुमति देने का आग्रह करता हूं।

डेनियल ने आगे लिखा कि, “साथ ही हमें डिजिटल सशक्तिकरण और वित्तीय समावेशन के जरिए भारतीय लोगों के जीवन को बेहतर बनाने वाली उपयोगी एवं सुरक्षित सेवा पेश करने का अवसर दीजिए।”

बता दें कि कि है पत्र 5 नवंबर को लिखा गया है और व्हाट्सएप के एक प्रवक्ता ने बताया प्रवक्ता ने प्रवक्ता ने बताया कि भारत में काफी लोगों ने डिजिटल माध्यम से पैसे की लेनदेन शुरू कर दी शुरू कर दी है जिस वजह से काफी ज्यादा प्लेटफार्म ऐसे हैं जो भुगतान की सुविधा दे रहे हैं, ऐसे में हम हम भी चाहते हैं कि हमारी भी सर्विस को आरबीआई अनुमति दें और हम भी भारत में हमारे व्हाट्सएप के उपभोक्ताओं के काम आ सके। भारत में लाने जा रही है ये सेवा, रिज़र्व बैंक से मांगी अनुमति, लिखा पत्र

व्हाट्सएप प्रमुख ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को एक पत्र लिखा है, इस पत्र में उन्होंने भुगतान सेवा को शुरू करने की अनुमति मांगी है। उन्होंने इस पत्र में लिखा है कि भारत में लगभग 20 करोड़ व्हाट्सएप के उपभोक्ता है इसलिए उनकी नई सर्विस यानि कि भुगतान की सेवा को प्रारंभ करने के लिए रिजर्व बैंक उन्हें अनुमति देने का कष्ट प्रदान करें।

बता दें कि यह मैसेजिंग एप तकरीबन 2 साल से सरकार के संपर्क में और अपनी अपनी इस सेवा के बारे में चर्चा करती रही है। व्हाट्सएप चाहती है कि जल्द से जल्द सरकार उन्हें भुगतान सेवा प्रारंभ करने की अनुमति दे।

बता दें कि व्हाट्सएप के लिए चिंता का विषय यह भी है कि उनकी प्रतिद्वंदी माने प्रतिद्वंदी माने जाने वाली गूगल कंपनी ने भुगतान की सेवा की शुरुआत कर दी है इसलिए व्हाट्सएप भी व्हाट्सएप भी इसलिए व्हाट्सएप भी यह चाहती है की सरकार उन्हें जल्द से जल्द भुगतान सेवा प्रदान करने की अनुमति प्रदान करें।

इसी संबंध में कंपनी के प्रमुख क्रिस डेनियल ने अब आरबीआई को पत्र लिखकर देश में सभी उपभोक्ताओं को भुगतान सेवा की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए औपचारिक अनुमति देने का आग्रह किया है।

डेनियल ने आरबीआई गवर्नर को जो पत्र लिखा है उसमें उन्होंने कहा है, “मैं आपसे वाट्सएप की भीम यूपीआई (यूनिफायड पेमेंट इंटरफेस) पर चलने वाले भुगतान उत्पाद को सभी भारतीय उपभोक्ताओं के लिए तत्काल शुरू करने को लेकर औपचारिक अनुमति देने का आग्रह करता हूं।

डेनियल ने आगे लिखा कि, “साथ ही हमें डिजिटल सशक्तिकरण और वित्तीय समावेशन के जरिए भारतीय लोगों के जीवन को बेहतर बनाने वाली उपयोगी एवं सुरक्षित सेवा पेश करने का अवसर दीजिए।”

बता दें कि कि है पत्र 5 नवंबर को लिखा गया है और व्हाट्सएप के एक प्रवक्ता ने बताया प्रवक्ता ने प्रवक्ता ने बताया कि भारत में काफी लोगों ने डिजिटल माध्यम से पैसे की लेनदेन शुरू कर दी शुरू कर दी है जिस वजह से काफी ज्यादा प्लेटफार्म ऐसे हैं जो भुगतान की सुविधा दे रहे हैं, ऐसे में हम हम भी चाहते हैं कि हमारी भी सर्विस को आरबीआई अनुमति दें और हम भी भारत में हमारे व्हाट्सएप के उपभोक्ताओं के काम आ सके।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.