Loading...

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार अगर हथेली पर बनते हैं ये 5 निशान तो व्यक्ति बन जाता है धनवान

0 10

समुद्रशास्त्र के अनुसार हाथों पर बनने वाली रेखाओं के हिसाब से व्यक्ति के भविष्य एवं उसकी स्वास्थ्य से संबंधित चीजों का पता लगाया जा सकता है।

इन रेखाओं से यह पता लगाया जा सकता है कि फलाने व्यक्ति को कब या किस जीवन के पड़ाव में धन की प्राप्ति होगी।

समुद्रशास्त्र के अनुसार हथेली पर कुल मिलाकर 5 तरह के निशान बनते हैं। इन 5 शुभ निशान में कोई एक निशान भी बने तो उसे धन लाभ जरूर मिलता है।

Loading...

आइए जानते हैं:

समुद्र समुद्र शास्त्र के अनुसार जीवन रेखा और भाग्य रेखा का बहुत महत्व होता है। हाथ में जीवन रेखा या भाग्य रेखा से व्यक्ति के भविष्य का पता लगाया जा सकता है और यह बहुत ही महत्वपूर्ण रेखाओं में से एक मानी जाती है। हथेली पर जीवन रेखा गोलाई में हो और त्रिकोण का निशान भी साथ में बन रहा हो तो यह शुभ संकेत माना जाता है। ऐसे लोगों को अचानक धन लाभ होता है।

हथेली पर शनि पर्वत का एक अलग महत्व होता है। यह पर्वत कहीं ना कहीं इंसान की किस्मत से संबंधित बातों को बताने में सक्षम होता है। इस पर्वत के संग भाग्य रेखा का मिलना एक बहुत ही शुभ संकेत माना जाता है। ऐसे में अगर भाग्य रेखा कलाई से यानी जिस स्थान पर मणिबंध बना हो वहां से चल कर सीधे शनि पर्वत पर जाकर मिले तो वह व्यक्ति बहुत भाग्यशाली होता है।

हथेली के आकार से भी संकेतों का पता लगाया जा सकता है। समुद्रशास्त्र में इसके बारे में भी बताया गया है। हथेली के विभिन्न प्रकार भी शुभ संकेतों को बताने में सक्षम होते हैं। अगर किसी की हथेली भारी और चौड़ी हो तो वह जीवन में अमीर जरूर बनता है।

अगर हथेली में शनि पर्वत पर दो खड़ी रेखाएं हो या जा रही हो या मिल रही हो तो ऐसा संकेत अत्यधिक शुभ माना जाता है और ऐसे व्यक्ति अपने जीवन में बहुत सफलताओं को प्राप्त करते हैं।

अगर अगर शनि पर्वत उठा हुआ हो तो यह संकेत बहुत अच्छा माना जाता है। शनि पर्वत के उठे होने से व्यक्ति को असफलता का मुंह नहीं देखना पड़ता यानी कि वह हमेशा सफल होता है। वही उठा हुआ सूर्य पर्वत भी इंसान के जीवन में काफी शुभ समाचार लाता है। अगर आप का सूर्य पर्वत उठा हुआ है तो इसका मतलब है कि उस व्यक्ति के जीवन में मान-सम्मान की कोई कमी नहीं होगी और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती रहेगी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.