Loading...

मिताली राज से विवाद के बाद गई कोच रमेश पवार की ‘कुर्सी’, अब भारत को मिलेगा नया कोच

0 16

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की सबसे सफलतम खिलाड़ियों में से एक मिताली राज और महिला क्रिकेट टीम के कोच रमेश पवार के बीच हुए विवाद से तो हम सब अवगत हैं। कैसे वर्ल्ड टी20 में इंग्लैंड के खिलाफ हुए सेमीफाइनल मैच में मिताली राज को बाहर रखा जाता है और कैसे मिताली आरोप लगाती हैं कि कोच रमेश पवार ने ही ये साजिश रची है।

वैसे इस विवाद में कई मोड़ आ चुके हैं साथ ही कई प्रकार की बातें एवं आरोप लगाए जा चुके हैं। मिताली के आरोपों के बाद रमेश पवार ने आरोपों का पलटवार करते हुए बोला था कि मिताली राज अपनी मनमानी कर रहीं थी और मुझे धमकी दी थी की बीच से ही टूर्नामेंट को छोड़ देंगी।

बरहाल जो भी हुआ हो, लेकिन अब इस विवाद का अंत होता नज़र आ रहा है। जी हां, दरअसल भारतीय टीम के कोच रमेश पवार का कॉन्ट्रैक्ट समाप्त होने वाला था और ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि हो सकता है उनका ये कॉन्ट्रेक्ट अब बढ़ाया न जाए। अब ऐसा संभव हो गया है।

दरअसल बीसीसीआई ने महिला टीम के कोच रमेश पोवार का कॉन्ट्रैक्ट नहीं बढ़ाया है. बता दें कि वर्ल्ड टी20 से पहले टीम इंडिया से जुड़े पोवार को अंतरिम कोच बनाया गया था.

Loading...

दरअसल रमेश पवार का कॉन्ट्रैक्ट शुक्रवार तक का था. यानी अब बोर्ड को ये डिसिशन लेना था कि भारतीय महिला टीम के कोच रमेश पवार का कॉन्ट्रेक्ट बढ़ाना है या नहीं।

अब बोर्ड ने वो डिसिशन ले लिया है और रमेश पवार का कॉन्ट्रैक्ट नहीं बढ़ाने का फैसला किया है। दरअसल वेस्टइंडीज में वर्ल्ड टी20 के दौरान मिताली राज से उनका विवाद हो गया था. अतः इन सब विवादों को मद्देनजर रखते हुए क्रिकेट बोर्ड बीसीसीआई ने रमेश पवार का कॉन्ट्रैक्ट नहीं बढ़ाया है. और अब जाहिर सी बात है कि बीसीसीआई को टीम इंडिया के लिए नए कोच की तलाश है.

लेकिन ऐसा हुआ क्यों? क्यों बीसीसीआई ने कोच रमेश पवार का कॉन्ट्रैक्ट नहीं बढ़ाया? आइए जानने की कोशिश करते हैं।

दरअसल, मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो उनके मुताबिक सीओए मिताली विवाद पर कोच रमेश पवार के जवाबों से संतुष्ट नहीं था. बताया जा रहा है कि क्रिकेट बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारी भी महिला क्रिकेट टीम के कोच से नाराज थे.

ऐसा भी माना जा रहा है कि रमेश पवार ने एक प्रभावी अधिकारी के फोन किया था इंग्लैंड के मैच से ठीक पहले और अटकलों की माने तो पवार ने उस अधिकारी जे साथ फोन पर ही मिताली को प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया, और पवार ने इस विषय के बारे में मिताली राज से बात तक नहीं की.

इसके अलावा जब रमेश पवार की सीओए से मुलाकात हुई तो मिताली राज को बाहर करने पर वो एक सवाल का ठीक से जवाब नहीं दे पाए। दरअसल पवार से जब ये पूछा गया कि दो अर्धशतकों और मैन ऑफ द मैच हासिल करने वाली मिताली राज को अचानक ड्रॉप करने की क्या वजह रही तो कोच रमेश पवार खामोश हो गए, उनके पास इस सवाल का कोई जवाब नहीं था।

बरहाल इस विवाद का अब अंत हो चूका है, अब देखने वाली बात होगी की इसके बाद बीसीसीआई किस व्यक्ति को भारतीय महिला क्रिकेट टीम का कोच बनाती है। और मिताली राज कैसा परफॉर्मेंस देतीं हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.