Loading...

घर में कई दिनों से हो रही थी अजीबोगरीब घटनाएं, सच आया सामने तो भूत-प्रेत मानने वालों के उड़े होश

0 66

जिस तरह भगवान हैं उस तरह भूतों का भी अस्तित्व है। साइंटिस्ट्स ने भी इस बात को कभी नहीं नकारा। वो कहते हैं कि अगर पॉजीटिव एनर्जी है तो नेगेटिव एनर्जी भी होगी।

लेकिन जर्मनी में घटी एक घटना ने पैरानॉर्मल एक्सपर्ट्स और भूत-प्रेत पर विश्वास रखने वाले लोगों को भी होश उड़ा दिए। ये मामला है यहां के गोस्लार शहर में बने एक घर का जहां एक महिला लंबे समय से अजीबोगरीब घटनाएं देख रही थी।

एक इंग्लिश वेबसाइट के मुताबिक यहां एक सुनसान इलाके में एक महिला ने पुराना घर किराए पर लिया था। सिंगल महिला अपने बच्चों के साथ रहने लगी थी। कुछ समय तो सबकुछ ठीक ठाक रहा, लेकिन उसके बाद कुछ ही दिनों में ऐसी-ऐसी अजीबोगरीब घटनाएं घटने लगीं वो काफी परेशान हो गई।

दीवारों से आती थीं आवाजें

Loading...

महिला ने बताया कि कई बार देर रात उसे अजीब सपने आते थे। वो बार-बार झटके से उठ जाती थी। कई बार उसे दीवारों से आवाजें भी सुनाई दीं। उसे लगा ये उसके मन का वहम है, पर उसके बच्चों ने भी ऐसे ही अहसास किए।

मधुमक्खियों के झुंड ने किया हमला

महिला ने आगे बताया कि एक दिन मधुमक्खियों के झुंड ने उसपर और उसके बच्चों पर हमला कर दिया। महिला को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि उसके साथ क्या हो रहा है।

इधर-उधर मिलता सामान

कुछ दिनों में ये घटनाएं ज्यादा बढ़ने लगीं। देर रात कई बाहर किसी की आहट होती और अगले दिन घर का सामान अस्त-व्यस्त मिलता। एक बार उसे किसी लड़की का साया नजर आया। इस सबसे परेशान महिला ने एक पादरी की मदद लेने का फैसला किया।

पादरी ने कहा, तुम्हें वहां नहीं जाना था

गोस्लार के लोकल चर्च पहुंचकर महिला ने पादरी की घटना बतानी शुरू की। तभी पादरी ने कहा कि उसे उस घर के बारे में कई शिकायतें मिली हैं और कहा कि उसे वहां नहीं रहना चाहिए था।

जब महिला ने इसकी वजह पूछी तो पादरी ने बताया कि उस घर में दो सौ से ज्यादा प्रेत-आत्माओं का डेरा है। ये सुनते ही महिला वहीं बेहोश हो गई।

लंबे समय से बंद था घर

महिला को जब होश आया तो उसे बताया गया कि ये घर लंबे समय से बंद था। कोई यहां रहने नहीं आता था। वहीं महिला यहां के सस्ते किराए के चक्कर में यहां रहने आ गई थी।

क्या कहते हैं पैरानॉर्मल एक्सपर्ट्स

पैरानॉर्मल एक्सपर्ट्स का मानना है कि नेगेटिव एनर्जी या भूत-प्रेत वहां पनपने लगते हैं, जहां पॉजिटिव एनर्जी नहीं होती। लंबे समय से बंद पड़े घर अक्सर इसी वजह से उनका डेरा बन जाते हैं।

भूत-प्रेत मानने वाले इसी वजह से सुनसान जगहों पर लोगों को सतर्क रहने की बाते कहते हैं। कई बार सुनसान इलाकों तेज खुशबू आना इस बात का संकेत देता है कि वहां को आत्मा हो सकती है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.