Ultimate magazine theme for WordPress.

पौंजी स्केम में नाम आने के बाद फरार हुए जनार्धन रेड्डी

0 6

पोंजी घोटाले में नाम आने के बाद बेल्लारी के माइन माफिया जनार्दन रेड्डी फरार चल रहे हैं. बेंगलुरु की क्राइम ब्रांच को रेड्डी की तलाश है, उनके खिलाफ एक ताजा मामला भी सामने आया है.

पुलिस के मुताबिक, रेड्डी ने ईडी के अधिकारियों को रिश्वत देने की कोशिश की थी. पुलिस के अनुसार, 600 करोड़ रुपये के घोटाले में शामिल एक कंपनी और उसके मालिक अहमद फरीद को ED की जांच से बचाने के लिए जनार्दन रेड्डी ने 18 करोड़ रुपये की एक डील की थी.

वहीं बेंगलुरु के पुलिस कमिशनर टी सुनील कुमार ने कहा, ‘फ़रीद ने जांच में हमें बताया है कि उसने रकम दी क्योंकि जनार्दन रेड्डी और दूसरे लोगों ने उनसे वादा किया था कि उन्हें प्रवर्तन निदेशालय की जांच से बचाएंगे.’

कौन हैं जनार्धन रेड्डी

आपको बता दें कि सीबीआई ने जनार्धन रेड्डी के खिलाफ भ्रष्टाचार और अवैध माइनिंग के कई मामलों में केस दर्ज किए हैं. वे 2015 से जमानत पर हैं.

रेड्डी तीन साल तक जेल में भी रह चुके हैं. सुप्रीम कोर्ट के आदेश की वजह से जनार्दन रेड्डी को बेल्लारी जिले में घुसने की भी इजाजत नहीं है. इसके बावजूद वे कर्नाटक विधानसभा चुनाव के दौरान प्रचार करते नजर आए थे. यही कारण रहा कि उनके बेल्लारी जाने पर रोक लगी थी.

चल रहे हैं फरार

फिलहाल जनार्दन रेड्डी फरार है, हालांकि वह अवैध खनन मामले में ज़मानत पर है. इस मामले में जनार्दन रेड्डी के ख़ासमखास श्रीरामुलु का कहना है कि जनार्दन रेड्डी क़ानूनी प्रक्रिया में पूरी मदद करेंगे. श्रीरामुलु ने कहा कि मीडिया से ही इस बारे में मुझे पता चला है इस बारे में मेरे पास पूरी जानकारी नहीं है. कोई भी क़ानून से ऊपर नही है.

Loading...
Comments
Loading...