Ultimate magazine theme for WordPress.

चीनी मोबाइल ब्रांड बने भारतीयों की पहली पसंद, तभी तो एक साल में लुटाए 50 हजार करोड़ रुपए

0 119

इन दिनों सोशल मीडिया पर दिवाली के मौके पर जहां एक तरफ चीनी लाइट को ना खरीदने का कैंपेन चलाया जा रहा है. वहीं दूसरी तरफ देखा जाए तो भारतीयों में चीनी स्मार्टफोन का क्रेज बढ़ता जा रहा है. दरअसल हम बात कर रहे हैं चीनी स्मार्टफोन कंपनी शाओमी, ओप्पो, वीवो, लेनोवो, वनप्लस और होनर की जोरदार बिक्री के बारे में.

रजिस्टर ऑफ कंपनी (आरओसी) के अनुसार भारतीयों ने इन चार चीनी मोबाइल कंपनियों पर वित्त वर्ष 2018 में 50 हजार करोड़ से ज्यादा रुपए खर्च कर दिए. देखा जाए तो पिछले साल के मुकाबले में यह दोगुना है. जी हां पिछले वित्त वर्ष 2017 में इन चारों ही मोबाइल कंपनी का टोटल रिवेन्यू 26,262 करोड रुपए था. जो अब बढ़कर 50 हजार करोड रुपए हो गया.

चीनी कंपनियों का वित्त वर्ष 2018 का रेवेन्यू

रजिस्टर ऑफ कंपनी की रिपोर्ट की मानें तो भारतीय मोबाइल मार्केट के आधे से ज्यादा हिस्से पर चीनी मोबाइल ब्रांड का ही कब्जा है. चीन की इन चार मुख्य कंपनियों के अलावा मोटो, लेनोवो, वनप्लस और Infinix ने भी भारतीय मोबाइल बाजार में काफी अच्छा बिजनेस किया है. भारत में चीनी मोबाइल की इतनी तादात में बिक्री होने का मुख्य कारण है हाई स्पेसिफिकेशन और दाम बेहद कम. केवल सस्ते स्मार्टफोन की मार्केट में ही नहीं बल्कि 30,000 से ज्यादा की कीमत में आने वाले स्मार्टफोन की मार्केट में भी चीनी मोबाइल कंपनी वनप्लस ने अपना दबदबा बनाया हुआ है.

ऐसा भी नहीं है कि चीनी कंपनियां केवल भारत से कमाई कर रही हैं, बल्कि यह चीनी कंपनियां निवेश के मामले में भी काफी आगे हैं. चीनी मोबाइल कंपनी शाओमी ने भारत में 15,000 करोड रुपए निवेश करने का ऐलान किया है तो वहीं दूसरी तरफ ओप्पो उत्तर प्रदेश में अपनी दो नई मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने वाली है. मोबाइल कंपनी वीवो भी अपने प्लांट में जल्द ही 5000 भारतीयों को नौकरी देगी.

भारतीय मोबाइल बाजार में इन प्रमुख चीनी कंपनियों को कोरियाई कंपनी सैमसंग और अमेरिकन कंपनी एप्पल ने भी कड़ी टक्कर दी है. कोरियाई कंपनी सैमसंग की वित्त वर्ष 2017 की रेवेन्यू की बात की जाए तो सैमसंग पिछले वित्त वर्ष 34,261 करोड रुपए के स्मार्टफोन बेचे थे. वहीं एप्पल ने वित्त वर्ष 2018 में 13,097 करोड रुपए का कारोबार किया.

Loading...
Comments
Loading...