Ultimate magazine theme for WordPress.

6 साल की छात्रा को टॉयलेट में जाता देख पीछे से पहुंच गया 7वीं क्लास का स्टूडेंट और फिर करने लगा

0 19

देश में आप आए दिन रेप आदि की घटनाओ के बारे में सुनते होंगे. सरकार की कई कोशिशों के बावजूद रेप का आंकड़ा नीचे आने का नाम ही नहीं ले रहा है. अभी ऐसा ही रेप का एक ताजा मामला चंडीगढ़ के गवर्नमेंट स्कूल से आ रहा है. बताया जा रहा है कि इस स्कूल की कक्षा एक में पढ़ने वाली 6 वर्षीय मासूम जब बाथरूम गई तो पीछे से सातवीं क्लास में पढ़ने वाला छात्र भी उसके पीछे चला गया. छात्र ने इस मासूम का रेप करना चाहा पर वह किसी तरह वहां से बच निकली. इस लड़की ने घर पर आपबीती बताई तो घर वालों ने तुरंत इसकी सूचना स्कूल प्रबंधन को दी. पर इस मामले पर स्कूल प्रबंधन ने भी कोई खास रवैया नहीं अपनाया. स्कूल प्रबंधन ने पुलिस को सूचना दिए बगैर दोनों परिवार को समझौते के लिए मनाना शुरू कर दिया.

जानिए पूरा मामला

यह घटना एक हफ्ते पहले की बताई जा रही है. घटना के अनुसार बच्ची दोपहर वाली शिफ्ट में स्कूल गई थी और इसी दौरान वो टॉयलेट की तरफ गई. बच्ची को टॉयलेट में जाकर देख 7वीं क्लास का एक लड़का भी उसके पीछे टॉयलेट में घुस गया. इसके बाद लड़के ने बच्ची का हाथ में मरोड़ते हुए उसके साथ गलत हरकतें शुरू कर दी. रेप की कोशिश देख कर यह मासूम चिल्ला पड़ी, जिसके बाद लड़का वहां से भाग निकला. इस घटना से लड़की इतनी डर गई कि वह स्कूल में चुपचाप बैठी रही पर उसने हिम्मत करके आपबीती घरवालों को सुनाई. घरवालों ने जब इस मामले की सूचना स्कूल प्रबंधन को दी तो उन्होंने कार्रवाई के नाम पर केवल आरोपी लड़के को स्कूल से निकाल दिया.

करवाई के नाम पर केवल स्कूल से निकाला

मामले का खुलासा होने पर स्कूल प्रिंसिपल ने बच्ची के घरवालों और लड़की के घरवालों को स्कूल में बुलाकर बातचीत से मामला निपटाने को कहा. पर लड़की के घर वाले आरोपी पर कार्रवाई को लेकर अड़े रहे. इसके बाद स्कूल प्रिंसिपल ने पूरे मामले की जानकारी लिखित में डिस्ट्रिक्ट एजुकेशन ऑफिसर रणजीत कौर को दी. डीईओ ने मामला जानकर स्कूल प्रिंसिपल को कहा कि वह बच्ची की मेडिकल रिपोर्ट पेश करे और आरोपी पर तुरंत कार्यवाही करते हुए उसे निकाल दे.

स्कूल प्रिंसिपल ने बताया कि इस घिनौनी घटना के आरोपी पर उचित कार्यवाही की जाएगी. डीईओ को इस मामले की जानकारी दी गई है और जल्द ही बच्ची की मेडिकल रिपोर्ट पेश कर दी जाएगी. इसके बाद आरोपी पर आगे की कार्यवाही की जाएगी.

सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद भी भारत में रेप और दुष्कर्म होने या फिर प्रयास की घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही है.आइए जानते हैं भारत में रेप के आंकड़े के बारे में.

1. 2016 में देश में हर चार घंटे में रेप का केस रिपोर्ट होता था.

2. 2017 में हर दो घंटे में रेप का केस रिपोर्ट हो रहा है.

3. 2010 में देश में 38,947 रेप की शिकायतें दर्ज हुईं.

4. 2015 तक आंकड़ा 35 हजार के करीब था.

5. 2016 में महिलाओं के खिलाफ अपराधों में 3% की बढ़ोतरी हुई.

…जबकि सिर्फ रेप के केस ही 12% बढ़ गए.

Loading...
Comments
Loading...