Loading...

टाटा एआईए की नई स्कीम में 24 साल तक कर मुक्त मासिक आय

0 21

नई दिल्ली, 30 अगस्त (आईएएनएस)| जीवन बीमा कंपनी टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस ने एक नई स्कीम शुरू की है जिसमें बीमा किस्त की भुगतान अवधि पूरी होने के 24 साल बाद तक मासिक आय का जरिया बना रहेगा और आय पर कोई कर भी नहीं देना होगा। जीवन बीमा कंपनी ने कहा कि यह गारंटीकृत मासिक आय योजना है और इसमें प्रीमियम भुगतान/ पॉलिसी अवधि की समाप्ति की तारीख से 24 साल की अवधि तक कर मुक्त मासिक आय प्राप्त करने का प्रावधान है। इस स्कीम का नाम टाटा एआईए लाइफ गारंटीकृत मासिक आय योजना (टाटा एआईए लाइफ जीएमआईपी) है।

कंपनी ने कहा कि यह योजना सेवानिवृत्ति के बाद की आवश्यकताओं और बच्चों की शिक्षा पर होने वाले खर्च जैसे जीवन के अन्य वित्तीय जरूरतों की पूर्ति के लिए बेहतर विकल्प है।

कंपनी की विज्ञप्ति के अनुसार, बीमाधारक किस्त का भुगतान करने के लिए पांच, आठ और 12 साल की अवधि का चयन कर सकते हैं और बीमा किस्त का भुगतान करने की अवधि समाप्त होने के बाद इस में क्रमश: 10 साल, 16 साल और और 24 साल तक मासिक आय प्राप्त करने का विकल्प होगा। किस्त जमा करने की अवधि समाप्त होने के महज एक महीने के बाद आय मिलना शुरू हो जाएगा।

टाटा एआईए लाइफ के चीफ रिस्क ऑफिसर और हेड प्रोडक्ट्स समित उपाध्याय ने कहा, “टाटा एआईए लाइफ गारंटीकृत मासिक आय योजना काफी सरल और लाभप्रद बीमा योजना है जिसे विशेष रूप से गारंटीकृत कर मुक्त मासिक आय प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है। इसमें चयनित आय अवधि 24 साल तक हो सकती है।”

Loading...

उन्होंने कहा कि यह योजना न सिर्फ किसी के परिवार के लिए वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती है बल्कि मासिक आय के स्रोत के रूप में भी दोगुना आमदनी दे सकती है जो कल की आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करती है।

उन्होंने कहा, “यह भविष्य की जरूरतों के लिए एक मददगार योजना होने के साथ आपके प्रियजनों को सुरक्षा भी प्रदान करती है।”

उन्होंने कहा कि टाटा एआईए लाइफ के तहत जीएमआईपी देय मृत्यु लाभ वार्षिक प्रीमियम के 11 गुना, या भुगतान किए गए सभी प्रीमियम का 105 फीसदी या परिपक्वता पर देय बीमित राशि (सम अश्युअर्ड), या पॉलिसी अवधि (यानि प्रीमियम भुगतान अवधि) के दौरान मृत्यु पर (अगर पॉलिसी लागू हो तो) बीमित राशि के रूप में पूरा भुगतान किया जाता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.