Loading...

अमेरिका में कच्चे तेल के भंडार में कमी से कीमतों में उछाल

0 15

नई दिल्ली, 30 अगस्त (आईएएनएस)| अमेरिका में कच्चे तेल का उत्पादन कम होने से पिछले हफ्ते भंडार में कमी आई जिससे कीमतों में जोरदार तेजी देखी जा रही है। पिछले दस दिन में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में तेल का दाम छह डॉलर प्रति बैरल तक बढ़ गया है।

तेल के दाम में आई तेजी को अमेरिका द्वारा ईरान पर लगाए गए प्रतिबंध से भी सहारा मिला है क्योंकि ईरान से तेल का निर्यात इस प्रतिबंध से बाधित हुआ है।

एनर्जी इन्फॉरमेशन एडमिनिस्ट्रेशन (ईआईए) की रिपोर्ट के मुताबिक, 24 अक्टूबर को समाप्त हुए सप्ताह में अमेरिका में कच्चे तेल का भंडार 26 लाख बैरल घटकर 40.58 करोड़ बैरल रह गया था।

बाजार के जानकार बताते हैं कि अमेरिकी तेल भंडार में कमी और ईरान पर प्रतिबंध के अलावा वेनेजुएला से तेल की आपूर्ति बाधित होने से भी तेल के दाम को समर्थन मिला है।

Loading...

तेल बाजार के जानकार बताते हैं कि इस साल कच्चे तेल के दाम में तेजी बनी रह सकती है।

घरेलू वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर सितंबर डिलीवरी तेल वायदा अनुबंध अपराह्न् 16.21 बजे 35 रुपये की तेजी के साथ 4,961 रुपये प्रति बैरल पर बना हुआ था। तेल के दाम में इस सप्ताह एमसीएक्स पर डेढ़ महीने से ज्यादा समय में सबसे बड़ी तेजी आई है। इससे पहले 10 जुलाई 2018 को एमसीएक्स पर तेल का दाम 5,000 रुपये प्रति बैरल से अधिक तक उछला था।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में अमेरिकी लाइट क्रूड डब्ल्यूटीआई का भाव 69.94 डॉलर प्रति बैरल था जो पिछले करीब एक महीने का उच्चतम स्तर है, जबकि ब्रेंट क्रूड का भाव 78.05 डॉलर प्रति बैरल था। ब्रेंट क्रूड में डेढ़ महीने से ज्यादा समय के बाद इतनी बड़ी तेजी आई है।

जनकार बताते हैं कि भारतीय बाजार में डीजल या पेट्रोल के दाम पर अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में तेजी आने का असर करीब दो से तीन हफ्ते के बाद दिखता है। ऐसे में माना जा सकता है कि आने वाले दिनों मे पेट्रोल और डीजल के दाम में और इजाफा होगा।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.