Loading...

राहुल गांधी ने RSS को कहा था मुस्लिम ब्रदरहुड, वहीं कांग्रेस सेवादल ने कि आरएसएस की जमकर तारीफ

0 14

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने जिस RSS की तुलना मुस्लिम ब्रदरहुड से की थी और आतंकवादी संगठन बताया करते थे, आज उसी संघ की तारीफों के पुल बांध रहे है. कांग्रेस इस संघ को फौजी अनुशासन वाला संघ बता रही है और इसके संस्थापक डॉक्टर हेडगेवार को देशभक्त का दर्जा भी दे रही है.

कांग्रेस ने एक प्रेस नोट जारी करते हुए RSS संघ के बारे में कई बातें लिखी है, उन्होंने बताया कि इस संघ के संस्थापक डॉक्टर हेडगेवार असहयोग आंदोलन में भाग लेने के साथ-साथ देश की आजादी की लड़ाई में भी हिस्सा लिया था. वहीं दूसरी ओर सेवादल इसे छपाई में गलती मानकर दोषी ठहरा रहा है. इस प्रेस नोट में 1928 में साइमन कमीशन के दौरे का भी जिक्र किया गया है.

मध्य प्रदेश कांग्रेस सरकार के प्रभारी और वरिष्ठ नेता दीपक बावरिया ने भी सेवादल से पहले आर एस एस संघ की तारीफ की थी. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को अनुशासन RSS संघ से सीखना चाहिए. RSS संघ की तारीफ करने के कारण बाबरिया कांग्रेसी नेताओं के निशाने पर आ गए थे और उन्हें आलोचनाओं को झेलना पड़ा था.

Loading...

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने RSS के बारे में कहा था कि यह एक ऐसा मुस्लिम ब्रदरहुड जैसा आतंकी संगठन है जो देश को बांटने के साथ-साथ देश में नफरत फैला रहा है. राहुल ने बताया कि यह संघ हिंदू धर्म के लिए काम करता है जिस कारण देश में भाईचारे की भावना खत्म हो रही है. लेकिन जब यह तारीफ का मामला बढ़ गया तो कांग्रेस के जिला समन्वयक धीरज डागा ने कहा कि यह छपाई में गलती हो गई है और बातों ही बातों में बात को टाल दिया.

डागा ने इसे प्रेस नोट को एक बहुत बड़ी गलती मानते हुए दूसरा प्रेस नोट जारी करने की बात कह रहे थे. लेकिन अभी एक चौंकाने वाला सच यह नजर आ रहा है कि 500 पन्नो के इस पूरे प्रेस नोट में गलती कैसे हो गई. 1-2 पन्नों पर गलती हो सकती लेकिन इतने बड़े प्रेस नोट पर गलती हो ना, बिना किसी ज्ञान के छपाई कैसे की जा सकती है?

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.